DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वीआईपी सीट 4: भाजपा के लिए जीत की गारंटी वाली सीट

gandhinagar lok sabha constituency

वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में गुजरात की गांधीनगर सीट पर सबकी नजरें हैं। वर्तमान में इस सीट से भाजपा के सबसे वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी सांसद हैं। महात्मा गांधी की कर्मभूमि रही गांधीनगर सीट भाजपा के लिए हमेशा जीत की गारंटी रही है। भाजपा इस सीट से 1989 के बाद से लगातार जीत रही है। 

lk advani

 

वर्ष 1967 में पहली बार हुए चुनाव में कांग्रेस ने जीत दर्ज की। 1971 में भी यहां की सत्ता कांग्रेस के ही पास रही, 1977 का चुनाव जनता दल ने यहां जीता लेकिन 1980-1984 में यहां कांग्रेस का शासन रहा।  लेकिन भाजपा के टिकट पर 1989 में इस सीट से पहला चुनाव शंकर सिंह वाघेला ने जीता था और तब से लेकर अब तक इस सीट पर केवल भाजपा का ही राज है। 

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी यहां से जीत चुके हैं चुनाव-
1991 में पहली बार यहां से लाल कृष्ण आडवाणी जीतकर लोकसभा पहुंचे थे, 1996 में यहां से देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी भी चुनाव जीते थे। उसके बाद से यहां आडवाणी ही जीतते चले आ रहे हैं, 2014 के आंकड़ें बताते हैं कि भाजपा को यहां पर हराना कितना मुश्किल काम है। इस चुनाव में आडवाणी को 773539 वोट मिले थे। जबकि कांग्रेस प्रत्याशी को 290419 वोट मिले थे। इसके बाद कोई भी प्रत्याशी 20 हजार वोट नहीं पाया था। करीब 91 साल के हो चुके लालकृष्ण आडवाणी इस बार चुनाव लड़ेंगे या नहीं, यह फैसला पार्टी ने उन्हीं के ऊपर छोड़ दिया है। हालांकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नीति के मुताबिक 75 साल से ज्यादा के उम्र के नेताओं को टिकट नहीं दिया जाएगा। लेकिन पार्टी को खड़ा करने वाले आडवाणी और डॉ. मुरली मनोहर जोशी को इस नियम से परे रखा गया है।

पटेल और वाघेला बिरादरी का दबदबा : गांधीनगर सीट पर पटेल और वाघेला बिरादरी का दबदबा है। वहीं इस लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत सात विधानसभा सीटें- गांधीनगर उत्तर, घटोलडिया, साबरमती, कलोल, बेजालपुर, सानंद, नारनपुरा आती हैं। 2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने सात में पांच पर जीत दर्ज की। जबकि जबकि दो पर कांग्रेस ने बाजी मारी। अब  यह देखना भी रोचक होगा कि यदि आडवाणी फिर इस सीट से उतरते हैं तो   कांग्रेस के दबदबे वाली उन दो विधानसभा सीटों पर क्या प्रभाव होगा।


कौन कब जीता

1967, 1971 सोमचंद भाई सोलंकी, कांग्रेस (संगठन)

1977--------पुरुषोत्तम मावलंकर, जनता पार्टी

1980--------अमृत पटेल, कांग्रेस आई

1984--------जीआई पटेल, कांग्रेस आई

1989--------शंकर सिंह वाघेला, भाजपा

1991--------लालकृष्ण आडवाणी, भाजपा

1996--------अटल बिहारी वाजपेयी, भाजपा

1996--------विजय पटेल भाजपा 
                
(उपचुनाव)

1998-1999--------लालकृष्ण आडवाणी    भाजपा

2004-2009--------लालकृष्ण आडवाणी    भाजपा

2014----------------लालकृष्ण आडवाणी    भाजपा

रिकॉर्ड बनना तो तय है

अगर आडवाणी इस बार भी चुनाव लड़ते हैं तो वह 91 साल की उम्र में ऐसा करने वाले पहले सांसद बन जाएंगे। अगर वह चुनाव नहीं लड़ते तो वह 91 वर्ष की उम्र में लोकसभा से रिटायर होने वाले पहले भारतीय राजनीतिज्ञ बन जाएंगे। इसलिए रिकॉर्ड बनना तो तय है।  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:loksabha elections 2019: the gandhinagar lok sabha constituency where bjp won most of elections with a big margin