DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मिशन 2019: बीजेपी को पीएम मोदी पर पूरा भरोसा, लेकिन इस बात ने बढ़ाई चिंता

pm narendra modi photo-livemint

भाजपा(BJP) की राष्ट्रीय परिषद में देश भर में जुटे प्रमुख कार्यकर्ताओं को मिशन 2019 के लिए अपने नेता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) पर पूरा भरोसा है, लेकिन राज्यवार हो रहे विपक्षी गठबंधनों को लेकर चिंता भी है। अधिवेशन में सबसे ज्यादा प्रतिनिधि सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश थे, तो उनकी चिंता भी अन्य राज्यों से बड़ी थी। अधिकांश कार्यकर्ता मोदी-मोदी की गूंज करने के साथ लखनऊ के भी हाल ले रहे थे, जहां सपा व बसपा अपने गठबंधन का ऐलान कर रहे थे।

भाजपा ने मिशन 2019 में सबसे बड़ी बाधा भावी विपक्षी गठबंधन है। यही वजह है कि उत्तर प्रदेश के नेताओं पर दबाब ज्यादा दिखा। प्रदेश के एक प्रमुख नेता ने कहा कि बीते पांच साल उनको एक दिन का चैन नहीं मिला है। पहले मिशन 2014 उसके बाद उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव 2017 और अब 2019 के आम चुनाव। चूंकि पूरी पार्टी व दूसरे राज्यों के कार्यकर्ताओं की उम्मीदें भी यूपी से ज्यादा रहती हैं इसलिए मेहनत भी ज्यादा करनी पड़ रही है। उत्तर प्रदेश के एक मंत्री मीडिया के साथ आकर बैठे, बातों-बातों में बता भी गए कि अब केवल मोदी के जादू का भरोसा है।

BJP का कांग्रेस पर निशाना, विपक्षी एकता का दावा कर रही खुद पड़ी अकेली

सपा-बसपा के गठबंधन की काट केवल उनके पास है और वही केवल जातीय समीकरणों को तोड़ सकते हैं। एक अहम बात यह भी है कि भाजपा 2014 के चुनाव में लगभग तीन करोड़ सदस्यों के साथ गई थी, लेकिन अब उसके पास 11 करोड़ सदस्य हैं। यह संख्या भाजपा के लिए मिशन 2019 का राह आसान बना सकती है, बशर्ते वह पूरी ताकत अबकी बार फिर से मोदी सरकार के पार्टी के चुनावी मंत्र पर खुद व हर घर तक पहुंचा सके।

शाह व मोदी लगातार ‘मेरा बूथ सबसे मजबूत’ का मंत्र दे रहे हैं क्योंकि इस बार की लड़ाई लोकसभा क्षेत्र में नहीं उसके हर बूथ पर लड़ी जानी है। एक प्रमुख नेता ने कहा कि 2014 में हासिल करना था, जो भी मिलता उसकी खुशी होती थी, लेकिन 2019 में बचाना है। बचाने पर संतोष ज्यादा होता है खुशी कम।

लोकसभा चुनाव: इस वजह से यूपी में गठबंधन की कमान दिखी मायावती के हाथ! 

मोदी, योगी और आडवाणी
अधिवेशन में तीन नेताओं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी को लेकर कार्यकर्ताओं में ज्यादा उत्साह दिखा। मोदी तो उनके सबसे प्रिय नेता हैं ही, लेकिन भगवाधारी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उनकी नई पसंद हैं। इन सबके बीच कार्यकर्ताओं का सबसे ज्यादा सम्मान लालकृष्ण आडवाणी को लेकर उमड़ा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:loksabha elections 2019 bjp is full confident with pm narendra modi but also has worried with sp and bsp alliance