loksabha election 2019 Left will take initiative to bring opposition parties together after election - चुनाव बाद विपक्षी दलों को साथ लाने की पहल करेंगे वामदल DA Image
20 नबम्बर, 2019|2:12|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चुनाव बाद विपक्षी दलों को साथ लाने की पहल करेंगे वामदल

 सीताराम येचुरी

लोकसभा चुनावों में विपक्षी एकजुटता उतनी असरदार नहीं दिख रही है, जितनी पहले कोशिश हो रही थी। भाजपा के खिलाफ साथ खड़े दिखने वाले विपक्षी दल राज्यों में एक-दूसरे के खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं। हालांकि, वामदलों का कहना है कि इससे केंद्र में वैकल्पिक सरकार बनाने की संभावनाओं पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

यदि नतीजे विपक्ष के अनुकूल रहते हैं तो वामदल आगे बढ़कर वैकल्पिक सरकार बनाने की दिशा में पहल करेंगे। भाजपा को हराने के लिए विपक्षी दलों की तरफ से काफी समय से मोर्चाबंदी की जा रही थी। मगर, जब मिलकर चुनाव लड़ने की बात आई तो वह कमजोर पड़ गई। संसद के भीतर और बाहर 21 दल कांग्रेस के साथ खड़े नजर आते थे। मगर, लोकसभा चुनाव में इनमें से ज्यादातर दल राज्यों में अलग-अलग और एक-दूसरे के खिलाफ लड़ रहे हैं। उत्तर प्रदेश में सपा, बसपा और रालोद ही एकजुट हो पाए हैं। 

कांग्रेस ने यूपी में अलग से अपने उम्मीदवार उतारे हैं। पश्चिम बंगाल में कांग्रेस, तृणमूल और वामदल अलग-अलग चुनाव लड़ रहे हैं, जबकि मोदी सरकार के खिलाफ तीनों एकजुट हैं। केरल में कांग्रेस और वामदलों के बीच मुख्य मुकाबला है। 

कई दल विपक्षी एकता की मुहिम से भी अलग हैं। जैसे बीजद किसके साथ जाएगा, यह स्पष्ट नहीं है। इसी तरह टीआरएस, वाईएसआर जैसे दलों का समूह भी अलग खड़ा दिख रहा है। 

गैर भाजपा गठबंधन सरकारों में अहम भूमिका

यह भी सत्य है कि जब भी केंद्र में गैर भाजपा गठबंधन सरकारें बनी हैं, वामदलों की उनमें अहम भूमिका रही है। माकपा महासचिव सीताराम येचुरी का कहना है कि राज्यों में अलग-अलग चुनाव लड़ने का यह मतलब नहीं है कि विपक्ष एकजुट नहीं है। 2004 में वामदलों ने 61 सीटें जीती थीं, जिनमें से 57 सीटें कांग्रेस को हराकर जीती थीं। लेकिन केंद्र में कांग्रेस नीत सरकार बनाने में वामदलों की भूमिका अहम रही थी। येचुरी ने कहा कि चुनाव नतीजों के बाद अगर वैकल्पिक सरकार बनने की संभावना नजर आती हैं तो वामदल फिर से इस पहल को अंजाम तक ले जाएंगे। 

नतीजे विपक्ष के अनुकूल रहे तो वैकल्पिक सरकार बनाने पर काम करेंगे -सीताराम येचुरी

EC पीएम मोदी,राहुल,अमित शाह के आचार संहिता उल्लंघनों पर आज लेगा फैसला

जुलूस शालिनी के साथ निकला, चुनाव चिह्न लेकर तेज बहादुर पहुंचे

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:loksabha election 2019 Left will take initiative to bring opposition parties together after election