ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशलोकसभा स्पीकर पर घमासान तय; NDA और INDIA ने जारी की व्हिप, मीटिंग भी बुलाई

लोकसभा स्पीकर पर घमासान तय; NDA और INDIA ने जारी की व्हिप, मीटिंग भी बुलाई

बुधवार को लोकसभा स्पीकर पद के लिए चुनाव होना है। इसके लिए दोनों अलायंस की तरफ से व्हिप भी जारी की गई है। दोनों अलायंस की तरफ से अपने सांसदों को स्पीकर के चुनाव में उपस्थित रहने को कहा गया है।

लोकसभा स्पीकर पर घमासान तय; NDA और INDIA ने जारी की व्हिप, मीटिंग भी बुलाई
Gaurav Kalaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 25 Jun 2024 08:47 PM
ऐप पर पढ़ें

लोकसभा अध्यक्ष के पद को लेकर एनडीए और विपक्षी इंडिया गठबंधन के बीच आम सहमति नहीं बन पाई है। नतीजन चुनाव की स्थिति बन गई है। एनडीए की तरफ से ओम बिरला और विपक्ष की तरफ से कांग्रेस सांसद के सुरेश आमने-सामने हैं। बुधवार को लोकसभा अध्यक्ष पद के लिए चुनाव होना है। इसके लिए दोनों अलायंस की तरफ से व्हिप भी जारी की गई है। दोनों अलायंस की तरफ से अपने सांसदों को स्पीकर के चुनाव में उपस्थित रहने को कहा गया है। चुनाव से पहले भाजपा और कांग्रेस ने अपने-अपने विधायकों की अलग से मीटिंग भी बुलाई है। सूत्रों का कहना है कि मंगलवार को 7 सांसद शपथ नहीं ले पाए। इसलिए वे स्पीकर के चुनाव में हिस्सा नहीं ले पाएंगे। 

लोकसभा अध्यक्ष पद के लिए राजस्थान की कोटा संसदीय सीट से लगातार तीसरी बार जीतकर आये भाजपा के ओम बिरला ने एनडीए की ओर से जबकि कांग्रेस के केरल से जीतकर आये आठ बार के सांसद के सुरेश ने विपक्ष की ओर से नामांकन पत्र दायर किया है। हालांकि नामांकन के बाद ही टीएमसी ने कांग्रेस की आलोचना की और इसे कांग्रेस का एकतरफा फैसला करार दिया था।

कांग्रेस ने मंगलवार को अपने सांसदों को तीन लाइन का व्हिप जारी कर कहा कि वे लोकसभा अध्यक्ष पद के चुनाव के दौरान बुधवार को सुबह 11 बजे से सदन में उपस्थित रहें। सदन में कांग्रेस के मुख्य सचेतक के. सुरेश द्वारा जारी व्हिप में कहा गया है कि बुधवार 26 जून 2024 को लोकसभा में बहुत महत्वपूर्ण मुद्दा उठाया जाएगा। इसमें यह भी कहा गया है, ‘‘लोकसभा में कांग्रेस पार्टी के सभी सदस्यों से अनुरोध है कि वे 26 जून 2024 को सुबह 11:00 बजे से सदन के स्थगन तक उपस्थित रहें और पार्टी के रुख का समर्थन करें।’’

उधर, भाजपा ने भी अपने सभी सांसदों को व्हिप जारी कर स्पीकर के चुनाव के लिए बुधवार को लोकसभा सत्र के दौरान उपस्थित रहने का निर्देश दिया है। सूत्रों का कहना है कि स्पीकर चुनाव से पहले भाजपा और कांग्रेस अपने सांसदों के साथ अलग से मीटिंग भी कर सकते हैं। मीटिंग में बुधवार को होने वाले घटनाक्रम से पहले रणनीति पर चर्चा संभव है।

लोकसभा स्पीकर पर घमासान तय
संसदीय परंपराओं के अनुसार लोकसभा अध्यक्ष को सर्वसम्मति से चुना जाता रहा है और यह पद सत्तापक्ष के पास रहता है जबकि उपाध्यक्ष पद अमूमन विपक्ष के पास रहता है। इसी परंपरा के तहत 18वीं लोकसभा के लिए अध्यक्ष पद को लेकर सत्ता पक्ष की ओर से रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने विपक्ष से सर्वसम्मति बनाने के बारे में बातचीत की थी लेकिन विपक्ष की ओर से इसके बदले में उपाध्यक्ष पद उसे दिये जाने की मांग की गयी।

संसदीय कार्य मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा कि सत्ता पक्ष ने सर्वसम्मति बनाने के लिए विपक्ष के सभी दलों से बात की है लेकिन विपक्ष ने इसके लिए उपाध्यक्ष पद की जो शर्त लगायी है वह ठीक नहीं है। उन्होंने कहा कि लोकसभा अध्यक्ष किसी पार्टी विशेष के लिए नहीं बल्कि पूरे सदन के लिए होता है और यदि विपक्ष इसके लिए चुनाव की बात पर अड़ता है तो यह खेदजनक है।

कांग्रेस के आरोप
उधर, कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा है कि यदि विपक्ष को डिप्टी स्पीकर पद दिया जाता है तो वह लोकसभा अध्यक्ष के पद के लिए सत्ता पक्ष के साथ सर्वसम्मति के लिए तैयार है। उन्होंने कहा, “मुझे अखबारों के जरिए पता चला है कि प्रधानमंत्री ने विपक्ष से सरकार के साथ रचनात्मक सहयोग करने को कहा है। खरगे जी को राजनाथ सिंह जी का फोन आया था जिसमें उन्होंने स्पीकर का समर्थन करने को कहा था। पूरे विपक्ष ने कहा कि हम सत्ता पक्ष का समर्थन करेंगे लेकिन परंपरा यह है कि उपाध्यक्ष का पद विपक्ष को दिया जाना चाहिए।” उन्होंने कहा कि सत्ता पक्ष की ओर से अभी इस बारे में कोई बात नहीं की गयी है।