DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फारुक अब्दुल्ला ने 70000 से अधिक वोटों से श्रीनगर लोकसभा सीट जीती

farooq abdullah

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारुक अब्दुल्ला ने 70000 से अधिक वोटों के अंतर से श्रीनगर लोकसभा सीट पर जीत दर्ज की है। अब्दुल्ला को 1,06,750 वोट मिले जबकि उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी पीडीपी उम्मीदवार आगा सैयद मोहसिन को सिर्फ 36,700 वोटों के साथ संतोष करना पड़ा। फारुक अब्दुल्ला चौथी बार लोकसभा के लिए चुने गए हैं। उन्हें श्रीनगर संसदीय क्षेत्र में चुनाव के दौरान कुल पड़े मतों में 57.14 प्रतिशत वोट मिले, जबकि मोहसिन को 19.64 फीसद वोट मिले। फारुक अब्दुल्ला ने मोहसिन को 70,050 मतों के अंतर से हराया।

सज्जाद लोन की अगुवाई वाली पीपुल्स कांफ्रेंस को 28,773 वोट (15.4 फीसद) मिले जबकि भाजपा के खालिद जहांगीर 4,631 वोटों (2.48 फीसद) के साथ चौथे स्थान पर रहे। श्रीनगर संसदीय क्षेत्र में श्रीनगर, बडगाम और गांदेरबल जिले हैं।

राजनीतिक इतिहास

जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर कश्मीर घाटी के मध्य में बसी है और यह भारत के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक माना जात है। श्रीनगर लोकसभा सीट, जम्मू और कश्मीर की सबसे महत्वपूर्ण सीटों में से एक है।

यह सीट पहली बार 1967 में अस्तित्व में आई। 1967 लोकसभा चुनाव में नेशनल कॉन्फ्रेंस के बख्शी गुलाम मोहम्मद जीते थे। 1971 में इस सीट से निर्दलीय प्रत्याशी एस.ए शमीम ने जीत हासिल की थी। उसके बाद नेशनल कॉन्फ्रेंस ने जबरदस्त वापसी करते हुए लगातार 4 लोकसभा चुनाव जीते। 1997 में इस सीट से बेगम अकबर जहां अब्दुल्ला सांसद बनीं, इसके बाद इस सीट से 1980 में उनके बेटे फारुख अब्दुल्ला ने अपनी जीत दर्ज की। 1984,1989 में यह सीट नेशल कॉन्फ्रेंस के पास ही रही। इसके बाद 1996 में इस सीट पर कांग्रेस ने कब्जा कर लिया। 1998, 1999 और 2004 में यह सीट फिर से नेशनल कॉन्फ्रेंस के पास आ गई और तीनों बार उमर अब्दुल्ला सांसद बनें। फिर 2009 में इस सीट से फारुख अब्दुल्ला उतरे और जीत गए लेकिन 2014 के लोकसभा चुनाव में पीडीपी नेता तारिक कर्रा से हार गए थे।

2014 लोकसभा चुनाव व 2017 उपचुनाव के आंकड़े-
जम्मू-कश्मीर की श्रीनगर लोकसभा सीट से इस वक्त नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूख अब्‍दुल्‍ला सांसद हैं, जिन्होंने साल 2017 के उपचुनाव में पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार नजीर अहमद को 10,000 से अधिक वोटों से हराया था। फारूख अब्‍दुल्‍ला इसी सीट पर साल 2014 के आम चुनाव में पीडीपी नेता तारिक कर्रा से हार गए थे। तारिक कर्रा के पीडीपी से इस्तीफा देने के बाद श्रीनगर लोकसभा सीट खाली हो गई थी। साल 2017 के उपचुनाव में केवल 7.12 फीसदी वोटिंग हुई थी जबकि साल 2014 में इस सीट पर 25.86 फीसदी वोटिंग हुई थी। इस सीट पर नोटा के पक्ष में 931 वोट मिले थे। फारूख अब्‍दुल्‍ला जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री भी रह चुके हैं, उन्होंने तीन बार जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री के रूप में सत्ता संभाली। 

2014 में कुल मतदाताओं की संख्या-3,12,212
पुरुष मतदाता-1,78554
महिला मतदाता -1,33658 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Lok Sabha Elections 2019 Results National Conference chief Farooq Abdullah wins Srinagar Lok Sabha seat