DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मोदी के करिश्मे से BJP के लिए मुमकिन हुआ 300 पार, राहुल बोले- जनता मालिक है

bjp amit shah

लोकसभा चुनाव में लगातार दूसरी बार प्रचंड मोदी लहर पर सवार भाजपा रिकॉर्ड सीटों के साथ केंद्र की सत्ता पर काबिज होने जा रही है। संयुक्त विपक्ष के व्यापक विरोध के बावजूद नरेंद्र मोदी महाविजेता बनकर उभरे और भाजपा अकेले 300 के आकड़े को भी पार कर गई। एनडीए के साथ यह आंकड़ा स्साढ़े तीन सौ के करीब पहुंच गया है। ऐसा पहली बार है जब कोई गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री दोबारा पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाने जा रहा है।

कई राज्यों में महाविजय: भाजपा ने गुजरात, राजस्थान, मध्य प्रदेश और उत्तराखंड समेत कई राज्यों में ज्यादातर सीटों पर कब्जा जमा लिया है। वहीं, कांग्रेस का हरियाणा, गुजरात, राजस्थान और उत्तराखंड समेत कई राज्यों में सूपड़ा साफ हो गया है। हालांकि पंजाब और केरल में सफलता हाथ लगी है।


सपा-बसपा को करारी शिकस्त: दशकों से चली आ रही दुश्मनी भुलाकर साथ आए बसपा सुप्रीमो मायावती और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के जातीय गठजोड़ को भी मोदी लहर ने बहा दिया। खबर लिखे जाने तक भाजपा 62 सीटों पर आगे चल रही थी जबकि सपा को महज पांच सीटें ही मिल पाई। मुलायम परिवार के तीन सदस्य भी चुनाव हारते हुए दिख रहे हैं। हालांकि बसपा ने अपना प्रदर्शन जरूर सुधारा है और उसे 10 सीटों पर कामयाबी मिलती दिख रही है। 

बिहार में राजद को एक भी सीट नहीं: मोदी की आंधी में बिहार में कई दलों का महागठबंधन भी ध्वस्त हो गया। लालू प्रसाद यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल को एक भी सीट नहीं मिली। कांग्रेस को सिर्फ एक सीट मिलती दिख रही है। वहीं, भाजपा के साथ मिलकर लड़े जदयू और लोजपा ज्यादातर सीटें जीतने में कामयाब रहे। राजद के लिए यह सबसे बड़ी हार है।

कांग्रेस के नौ पूर्व मुख्यमंत्रियों की हार: चुनाव नतीजे कांग्रेस के लिए बेहद निराशाजनक साबित हुए हैं। पार्टी अपनी सत्ता वाले कर्नाटक, राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में बुरी तरह परास्त हुई है। साथ ही पार्टी के नौ पूर्व मुख्यमंत्री भूपिन्दर सिंह हुड्डा, शीला दीक्षित, दिग्विजय सिंह, हरीश रावत, मुकुल संगमा, सुशील शिंदे, नबाम टुकी, अशोक चव्हाण, विरप्पा मोइली भी हार की तरफ बढ़ते दिख रहे हैं। 

बंगाल में जबरदस्त प्रदर्शन: भाजपा ने बंगाल में जबरदस्त प्रदर्शन किया है। तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी के व्यापक विरोध के बावजूद भाजपा अकेले दम पर यहां 18 सीटें जीतती नजर आ रही है। 2014 में पार्टी को यहां महज दो सीटें मिलीं थीं। इस बार पार्टी का वोट प्रतिशत भी दोगुना से ज्यादा बढ़ा है। वामपंथियों का गढ़ रहे बंगाल में वामदलों को करारी मात मिली है। देर रात तक आए रुझानों के मुताबिक वामदलों को यहां एक भी सीट मिलती नहीं दिख रही है। वहीं, कांग्रेस महज दो सीटों पर आगे चल रही है।

चंद्रबाबू नायडू की करारी शिकस्त: मोदी विरोध की धुरी बने आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू अपना गढ़ नहीं बचा सके। लोकसभा चुनाव में उनकी पार्टी महज दो सीटों पर आगे चल रही है। वहीं, विधानसभा चुनाव में वायएसआर कांग्रेस के जगन मोहन रेड्डी उन्हें करारी मात देकर बहुमत की ओर बढ़ रहे हैं ।

जातिगत समीकरण ध्वस्त: विरोधी दलों ने भाजपा के अभियान को धुव्रीकरण और तोड़ने वाली राजनीति से प्रेरित बताया था। इसके बावजूद रुझानों से तय हो गया कि देश भर में मोदी की लहर थी और पार्टी के शानदार चुनाव प्रबंधन ने भौगोलिक, जातिगत, उम्र, लिंग और आर्थिक स्थिति के तमाम बंधनों को तोड़ डाला। मोदी लहर सिर्फ हिन्दीभाषी प्रदेशों और गुजरात में ही नहीं बल्कि पश्चिम बंगाल, ओडिशा, महाराष्ट्र और कर्नाटक में भी रही । केरल, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश को यह छू नहीं सकी । तेलंगाना में भाजपा चार सीटों पर आगे है। उधर, ओडिशा विधानसभा चुनाव में बीजद का सत्ता में लौटना तय हो गया है। वहां मतदाताओं ने चतुराई से मतदान करके केंद्र और राज्य के लिये अपनी प्राथमिकताएं जाहिर कर दी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Lok Sabha elections 2019 results: BJP crosses 300 mark due to modi magic read what say rahul gandi on great victory of bhartiya janta party