DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

EVM पर महाभारत: संयुक्त विपक्ष ने चुनाव आयोग को घेरा, रखी ये मांगें

opposition leader at eci office

यूपी, बिहार और हरियाणा समेत कई राज्यों से ईवीएम को लेकर उठ रहे सवालों के बीच संयुक्त विपक्ष ने चुनाव आयोग की घेराबंदी की। कांग्रेस समेत 22 विपक्षी दलों ने आयोग से मुलाकात कर मांग की कि मतगणना से पहले हर विधानसभा में पांच ईवीएम और वीवीपैट का मिलान हो। यदि इसमें गलती हो तो उस विधानसभा क्षेत्र की पूरी मतगणना वीवीपैट के आधार पर ही की जाए। 

आयोग ने आश्वासन दिया : मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा के साथ डेढ़ घंटे की मुलाकात में विपक्ष ने छह पेज का ज्ञापन भी सौंपा। बैठक के बाद नेताओं ने संवाददाताओं को बताया कि आयोग ने उनकी मांगों पर खुले मन से विचार का आश्वासन दिया है। बुधवार सुबह आयोग इस पर आखिरी फैसला करेगा। प्रतिनिधिमंडल में कांग्रेस, तृणमूल, टीडीपी, सपा, बसपा व राजद समेत 22 दलों के नेता मौजूद थे।

बाद में गिनती करने का कोई फायदा नहीं: कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा, हमने आयोग से कहा कि आप हर विधानसभा क्षेत्र में जिन पांच बूथों के वीवीपैट की गिनती करेंगे उसे *सबसे पहले कीजिए। बाद में वीवीपैट पर्ची की गिनती करने का कोई फायदा नहीं है। नेताओं ने कई स्थानों पर स्ट्रांगरूम से ईवीएम के कथित स्थानांतरण से जुड़ी शिकायतों पर भी कार्रवाई की मांग की।

पारदर्शिता बरते आयोग: आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने सवाल किया कि आयोग ने बार-बार शिकायत के बाद भी अब तक कार्रवाई क्यों नहीं की। यह आयोग का कर्तव्य है कि वह पारदर्शिता तथा विश्वास स्थापित करे। 

एक-एक एजेंट होगा: बसपा के सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा कि यूपी के एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने कहा था कि मतगणना के दिन एआरओ टेबल पर दलों के एजेंट नहीं रहेंगे। इस पर मुख्य चुनाव आयुक्त ने स्पष्ट किया कि इस तरह का कोई आदेश नहीं दिया गया है। स्पष्टीकरण जारी किया जा रहा है कि हर एआरओ टेबल पर राजनीतिक दलों का एक-एक एजेंट होगा। इससे पहले सभी नेताओं ने बैठक कर नतीजों के बाद की स्थिति पर चर्चा की और रणनीति बनाई। 

यह भी पढ़ें-  यह पुनर्जागरण का चुनाव जिसे देश की जनता ने लड़ा: पीएम मोदी

ईवीएम और वीवीपैट मशीनें स्ट्रांग रूम में पूरी तरह सुरक्षितः चुनाव आयोग

विपक्षी दलों की ये हैं दो प्रमुख मांगें-
1- मतगणना से पहले वीवीपैट पर्चियों का ईवीएम के मतों से मिलान किया जाए।
2- गलती पाए जाने पर उस विधानसभा क्षेत्र के सभी मत वीवीपैट पर्चियों से गिनें जाएं।


अदालत से झटका
सर्वोच्च अदालत ने वीवीपैट के ईवीएम से 100 फीसदी मिलान की मांग वाली याचिका मंगलवार को खारिज कर दी। शीर्ष अदालत ने याचिकाकर्ताओं को फटकार लगाते हुए कहा कि ऐसी अर्जियों को बार-बार नहीं सुना जा सकता।

सुप्रीम कोर्ट का निर्देश
सुप्रीम कोर्ट ने हर विधानसभा क्षेत्र की पांच वीवीपैट की पर्चियों का ईवीएम से मिलान करने को कहा है। आयोग ने कहा था कि ईवीएम के मतों की गिनती के बाद वीवीपैट की पर्चियों की गिनती होगी।.

दिल्ली में सुरक्षा बढ़ाई गई-
दिल्ली में मतगणना केंद्रों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि स्ट्रांगरूम की तीन स्तरों पर सुरक्षा हो रही है। भीतरी घेरे में सीआरपीएफ, मध्य घेरे में दिल्ली के सशस्त्र बल और बाहरी घेरे में जिला पुलिस तैनात है।

 

शिकायतों के लिए कंट्रोल रूम बना

नई दिल्ली। चुनाव आयोग के दिल्ली मुख्यालय में ईवीएम संबंधी शिकायतों के तत्काल निस्तारण के लिए कंट्रोल रूम स्थापित किया है। चुनाव परिणाम आने तक यह 24 घंटे कार्यरत रहेगा। 

कोईभी व्यक्ति हेल्पलाइन नंबर 011-303052123 पर ईवीएम और वीवीपैट से जुड़ी शिकायत कर सकेगा। शिकायतों पर सीधे कार्रवाई की जाएगी। आयोग के मुताबिक सभी स्ट्रांग रूम को सीसीटीवी कैमरों से लैस किया गया है। कंट्रोल रूम से ही उनपर निगरानी रखी जा रही है। मतगणना तक उन पर नजर बनाई रखी जाएगी। (एजेंसी)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:lok sabha elections 2019: joint opposition leaders reach to election commission over EVM for thier demands before counting