अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मिशन 2019: गांव-गांव जाएंगे BJP सांसद, देंगे सरकार की उपलब्धियों की जानकारी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह।  (File Photo)

संसद के मानसून सत्र के बाद भाजपा सांसदों के लिए एजेंडा तय कर दिया गया है। सांसदों को अपने संसदीय क्षेत्रों में गांव-गांव तक जाकर केंद्रीय योजनाओं व उपलब्धियों की जानकारी जनता को देनी होगी। साथ ही इसकी जानकारी सोशल मीडिया पर भी देनी होगी, ताकि केंद्रीय नेतृत्व भी उन पर नजर रख सके।

संसद के शीतकालीन सत्र के बाद पार्टी सांसद के रिपोर्ट कार्ड के आधार पर उसके टिकट का फैसला करेगी। लोकसभा चुनावों की तैयारी में जुटी भाजपा ने सभी सांसदों से कहा है कि वे अधिकांश समय अपने क्षेत्र में ही रहें और चुनावी तैयारियों में जुटे रहें। जब तक उनको पार्टी कोई और जिम्मेदारी नहीं देती है, वे वहां पर नहीं जाएं। सूत्रों के अनुसार पार्टी के अंदरूनी फीडबैक में लगभग साठ से सत्तर ऐसे सांसद सामने आए हैं जो अपने क्षेत्रों में ज्यादा सक्रिय नहीं है। ऐसे में उन सांसदों को साफ कर दिया गया है कि चुनाव से पहले क्षेत्रों में जाना होगा और अगले शीतकालीन सत्र के पहले अपना रिपोर्ट कार्ड देना होगा। 

नीतीश को शर्म आ रही है तो दोषियों पर तुरंत कार्रवाई करें- राहुल गांधी

नेतृत्व कुछ सांसदों से नाराज
भाजपा नेतृत्व इस बात से नाराज है कि सांसद सरकार की उपलब्धियों को पूरी तरह से जनता के बीच लेकर नहीं जा पा रहे हैं। जिला व बड़े कस्बों में तो कार्यक्रम हो रहे हैं, लेकिन छोटे गांवों तक उनकी पहुंच नहीं बन पा रही है। भाजपा ने अब सांसदों से कहा है कि वे जो भी कार्यक्रम करें उसे  सोशल मीडिया में जरूर डालें।

अच्छा रिपोर्ट कार्ड काम आएगा
संसद के शीतकालीन सत्र के समाप्त होते ही भाजपा में उम्मीदवार चयन की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। तब तक भाजपा शासित तीन राज्यों मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ व राजस्थान के नतीजे आ जाएंगे जिससे रणनीति भी काफी साफ हो जाएगी। राजग के गठबंधन में दलों के आने-जाने को लेकर भी स्थितियां साफ हो सकेंगी। 

जानें क्या है अनुच्छेद 35 ए, क्यों हो रहा इसका विरोध

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Lok Sabha Elections 2019: BJP MPs will give information about achievements of modi government