DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खडूर साहिब लोकसभा सीट: 2009 में बनी इस सीट पर रहा SAD का कब्जा

bibi jagir kaur  ht   file

परिसीमन आयोग की सिफारिशों के बाद 2009 में अस्तित्व में आया- खडूर साहिब लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र। तरनतारन जिले के इस हिस्से को सिखों का पवित्र स्थल माना जाता है। गुरुद्वारा श्री खडूर साहिब के नाम पर इस क्षेत्र का नाम पड़ा। इस क्षेत्र में सिखों के आठ गुरुओं ने भ्रमण किया है, इसलिए यहां के गुरुद्वारे को पवित्र माना जाता है। कहा जाता है कि गुरुनानक देव स्वयं यहां पांच बार आए इसलिए भी चुनावों के नजरिये से यह महत्वपूर्ण क्षेत्र है। 

2014 के लोकसभा चुनावों में शिरोमणि अकाली दल (SAD) के रणजीत सिंह ब्रह्मपुरा ने कांग्रेस (Congress) के हरमिन्दर सिंह गिल को एक लाख से अधिक मतों से हराया था। एसएडी को 29 प्रतिशत, कांग्रेस को 23 प्रतिशत और आम आदमी पार्टी को 9 फीसदी मत मिले थे। 81.25 प्रतिशत ग्रामीण और 18.75 प्रतिशत शहरी आबादी वाले इस क्षेत्र की आबादी 21, 85,064 है।

Punjab Lok Sabha Elections 2019: पंजाब के बारे में यहां जानें सबकुछ

शिरोमणि अकाली दल ने यहां से सबसे पहले अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया है। भुलत्थ से पूर्व विधायक और एसजीपीसी की पूर्व प्रमुख बीबी जागीर कौर यहां से मैदान में है। यहां से भाजपा और एसएडी के बीच गठबंधन है। बीबी जागीर कौर पर बेटी की रहस्यमय मौत को लेकर खासा विवाद हुआ था। लेकिन 18 साल बाद उन्हें बरी कर दिया गया। खडूर साहिब में वह धार्मिक डेरा भी चलाती हैं। बीबी जागीर कौर का मुकाबला पंजाब एकता पार्टी की प्रत्याशी परमजीत कौर खालड़ा और टकसाली अकाली दल के पूर्व आर्मी चीज जनरल जेजे सिंह से होगा। 

तरनतारन था पहले नाम
एक समय टकसाली अकालियों का इस क्षेत्र में काफी प्रभाव था, लेकिन अब कई टकसाली नेता अकाली दल से अलग हो चुके हैं। 2009 से पहले भी इस हल्के में अकाली दल का ही कब्जा रहा है। 1952 से 1962 तक कांग्रेस के सुरजीत मजीठिया नुमाइंदगी कर चुके हैं। खडूर साहिब का पहले नाम तरनतारन था। 1989 में सिमरनजीत सिंह मान 4 लाख मतों से विजयी हुए थे। कांग्रेस ने अभी यहां से अपना उम्मीदवार घोषित नहीं किया है।

आम आदमी पार्टी (AAP) भी टकसाली अकाली दल से गठबंधन के प्रयास कर रही थी, लेकिन अब तक इसमें कोई प्रगति नहीं हुई है। आम आदमी पार्टी लगातार अपनी रणनीति पर काम कर रही है। लेकिन अब तक उसे कोई परिणाम नहीं मिले हैं। बावजूद इसके खडूर साहिब पर मुकाबला दिलचस्प होगा। कांग्रेस भी अभी उम्मीदवार की तलाश कर रही है। 

VIP Seat: किरण खेर की चंडीगढ़ सीट पर कई दिग्गज दावेदार

बता दें कि खडूरपुर साहिब में कुल नौ विधानसभा क्षेत्र आते हैं। इनमें से जंडियाला गुरु, तरनतारन, खेमकरण, पट्टी, खडूर साहिब, बाबा बकाला, कपूरथला, सुलतानपुर लोधी और जीरा शामिल है। यहां 15,95, 595 वोटर है। इनमें महिला वोटर 7,55,537 है। जबकि पुरुष वोटर 8,39,991 है।

खडूर साहिब लोकसभा सीट के पिछले 2 विजेता
2004-09 - डॉ. रतन सिंह- शिरोमणि अकाली दल
2014- रंजीत सिंह ब्रह्मपुरा- शिरोमणि अकाली दल

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:lok sabha chunav know about Shiromani akali dal dominated Khadoor sahib lok sabha seat