DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फतेहगढ़ साहिब लोकसभा सीट: 2014 में जीती थी AAP, अब कुछ ऐसा है हाल

harinder singh khalsa  ht   photo

पंजाब की फतेहगढ़ साहिब लोकसभा सीट से पिछले चुनावों में आम आदमी पार्टी (AAP) के हरिंदर सिंह खालसा को साढ़े तीन लाख से अधिक मत मिले थ। दूसरे नंबर पर रही कांग्रेस के हिस्से तीन लाख 13 हजार मत आए थे। 2009 में बनी इस सीट पर 9 विधानसभा की सीटें हैं। इनमें से 7 पर कांग्रेस (Congress) का कब्जा है। एक पर आम आदमी पार्टी और दूसरी पर शिरोमणि अकाली दल (SAD) कब्जा किए हैं। 

पटियाला के उत्‍तर में स्थित यह इलाका ऐतिहासिक और धार्मिक दृष्टि से बहुत महत्‍वपूर्ण है। सिखों के लिए इसका महत्‍व इस लिहाज से भी ज्‍यादा है कि यहीं पर गुरु गोविंद सिंह के दो बेटों को सरहिंद के तत्‍कालीन फौजदार वजीर खान ने दीवार में जिंदा चुनवा दिया था। फतेहगढ़ साहिब को गुरुद्वारों का शहर भी कहा जाता है। यहां का प्रमुख गुरुद्वारा फतेहगढ़ साहिब है।

Punjab Lok Sabha Elections 2019: पंजाब के बारे में यहां जानें सबकुछ

इस सीट पर कुल मतदाता 1,396,957 हैं। इनमें महिला वोटर 656,554 और पुरुष वोटर 740,390 हैं। यहां की नौ विधासभा हैं- बस्सी पथाना (कांग्रेस), फतेहगढ़ साहिब (कांग्रेस), अमलोह (कांग्रेस), खन्ना (कांग्रेस), समराला (कांग्रेस), साहनेवाल (शिरोमणि अकाली दल), पायल (कांग्रेस), रायकोट (आम आदमी पार्टी), अमरगढ़ (कांग्रेस)।

2009 में इस सीट पर कांग्रेस के सुखदेव सिंह विजयी हुए थे, लेकिन अब समीकरण काफी बदल चुके हैं। आप के सांसद हरिंदर सिंह खालसा को पार्टी ने निलंबित कर दिया है। उम्मीद की जा रही है कि वह भाजपा में शामिल हों। खालसा को पार्टी ने 2015 में निलंबित कर दिया था। वह केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप पुरी के करीबी बताए जाते हैं, क्योंकि दोनों ही इंडियन फोरेन सर्विस (1974) के बेचमैट हैं। 

हरदीप पुरी ने ही खालसा भाजपा में शामिल होने के लिए तैयार किया है। सूत्रों का कहना है कि यदि वह भाजपा में शामिल होते हैं तो उन्हें अमृतसर से टिकट दिया जा सकता है। 1984 में जब ब्लू स्टार ऑपरेशन हुआ तो खालसा नार्वे में भारत के एनवॉय थे। ब्लू स्टार के विरोध में उन्होंने पद से इस्तीफा दे दिया था। इसी समय कैप्टन अमरिंदर ने पटियाला के सांसद पद से इस्तीफा दिया था। 

भाजपा का गणित है कि खालसा के पार्टी में आने से शिरोमणि अकाली दल का विरोध करने वाले वोटर उनकी तरफ झुक सकते हैं। फतेहगढ़ साहिब से सांसद चुने जाने से पहले वह 1996 में बठिंडा से शिरोमणि अकाली दल के टिकट पर सांसद चुने गए थे। वाजपेयी सरकार में वह नेशनल कमीशन ऑफ शेड्यूल कास्ट्स एंड ट्राइब के सदस्य भी रहे। 

VIP Seat: किरण खेर की चंडीगढ़ सीट पर कई दिग्गज दावेदार

भाजपा में शामिल होने की बात पर खालसा कहते हैं, ''मैं इस बारे में ज्यादा कुछ नहीं कह सकता लेकिन मैं प्रधानमंत्री मोदी का समर्थक हूं। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार होने के कारण कांग्रेस इस सीट को गंवाना नहीं चाहती इसलिए वह यहां से कोई नया चेहरा तलाश रही है उधर आम आदमी पार्टी को जोर भी किसी नए और साफ-सुथरे चेहरे पर ही है।''

फतेहगढ़ साहिब लोकसभा सीट के पिछले 2 विजेता
-2009 में यहां से कांग्रेस के सुखदेव सिंह 393557 मतों से जीते थे।
-2014 में यहां से आप के हरिंदर सिंह खालसा 3,67,293 मतों जीते थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:lok sabha chunav 2019 aap win on 2014 now what situation know about fatehgarh sahib seat