DA Image
10 अप्रैल, 2020|6:34|IST

अगली स्टोरी

विवाद: मेघालय के राज्यपाल बोले, भीड़ से निपटने के लिए चीन की घटना से सीख लेनी चाहिए

Meghalaya Governor Tathagata Roy has evoked fresh controversy with his tweet backing a call to boyco

अपने बयानों के लिए अक्सर विवादों में घिरने वाले मेघालय के राज्यपाल तथागत रॉय ने अब सुझाव दिया है कि दिल्ली में पैदा हुई गड़बड़ियों को रोकने के लिए चीन में 1989 की थ्येन आन मन चौक की घटना से सीख ली जा सकती है।

चीन में बीजिंग के थ्येन आन मन चौक के आसपास चार जून 1989 को हजारों लोकतंत्र समर्थकों को मार डाला गया गया था। चीन की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के खिलाफ हफ्तों से प्रदर्शन कर रहे लोगों के खिलाफ पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने नृशंस अभियान चलाया था।

रॉय ने बुधवार (26 फरवरी) को एक ट्वीट किया, ''1988 के बीजिंग में थ्येन आन मन चौक की घटना याद है? याद है कि तंग श्याओपिंग कैसे निपटे थे? शायद एक सीख हो सकती है कि उत्तर-पूर्वी दिल्ली में गड़बड़ी से कैसे निपटें। मुझे पता है सारे कॉमरेड इससे सहमत होंगे।

बाद में उन्होंने इस ट्वीट को डिलीट कर दिया। पत्रकारों ने बृहस्पतिवार (27 फरवरी) को पूछा तो राज्यपाल ने अपने ट्वीट का बचाव करते हुए कहा कि ''उस ट्वीट में क्या है। मैं उसपर भ्रमजाल में नहीं पड़ना चाहता।"

अपने पोस्ट को लेकर एक यूजर की प्रतिक्रिया के जवाब में रॉय ने लिखा, ''तंग (श्याओपिंग) ने माओवाद के जानलेवा पंथ से चीन को बचा लिया और इसे ऊंचाइयों पर ले गए।" अपने ट्विटर प्रोफाइल पर रॉय ने खुद को दक्षिणपंथी हिंदू सामाजिक राजनीतिक चिंतक, लेखक और विचारक, साथ ही मेघालय का राज्यपाल बताया है। रॉय पश्चिम बंगाल में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष भी रह चुके हैं। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Lessons on handling mob should be learnt from Tiananmen Square Says Meghalaya governor Tathagata Roy