DA Image
1 सितम्बर, 2020|6:16|IST

अगली स्टोरी

एस जयशंकर और वांग यी की बैठक पर तस्वीर साफ नहीं, SCO की बैठक में मिलने वाले थे भारत-चीन के विदेश मंत्री

s jaishankar with wang yi   pti file photo

विदेश मंत्री एस जयशंकर और चीनी विदेश मंत्री वांग यी की सितम्बर में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के विदेश मंत्रियों की वार्ता के दौरान मॉस्को में मुलाकात को लेकर तस्वीर अभी साफ नहीं है। माना जा रहा है कि चीन इस मुलाकात के लिए इच्छुक था। लेकिन भारत सभी तरह के डेवलपमेंट पर नजर बनाए हुए है। भारत ने कूटनीतिक स्तर पर विकल्पों को गलवान घाटी हिंसा के बाद भी बंद नही किया था।

सूत्र मानते हैं कि अभी कुछ भी निश्चित नही है। लेकिन सीमा पर घटनाक्रम को बहुपक्षीय बैठकों से जोड़कर नही देखा जाना चाहिए। जहां तक द्विपक्षीय मुलाकात की बात है अभी इसपर कोई फैसला नही हुआ है।

यह भी पढ़ें- लद्दाख में LAC पर टकराव बढ़ने के आसार, चीन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए सेना हाई अलर्ट पर

गौरतलब है कि 10 सितंबर की बैठक के लिए रूस ने भारत चीन को आमंत्रित किया है। सूत्रों ने कहा, विदेश मंत्रालय की समूचे घटनाक्रम पर नजर है। इसके पहले रक्षामंत्री राजनाथ सिंह मास्को गए थे लेकिन उनकी चीनी समकक्ष से मुलाकात नही हुई थी। गालवान घाटी की हिंसा के बाद दोनों देशों के विदेश मंत्रियों की तनाव के बीच 17 जून को फोन पर बातचीत हुई थी।

यह भी पढ़ें- सुकून से सो जाएं, वे हिफाजत के लिए खड़े हैं: आधी रात में देशवासियों के लिए रक्षा मंत्रालय का ट्वीट

जयशंकर और वांग यी ने जून में रूस-भारत-चीन त्रिपक्षीय वर्चुअल बैठक में भी भाग लिया था। फिलहाल 4 सितंबर को ब्रिक्स विदेश मंत्रियों की वर्चुअल बैठक में भारत और चीन का रुख सामने आएगा। गौरतलब है कि रूस पर्दे के पीछे से भारत और चीन के बीच तनाव कम करने में दिलचस्पी लेता रहा है। लेकिन भारत ने चीन को बार बार स्पष्ट किया है कि वह अपनी संप्रभुता से कोई समझौता नहीं करेगा। दोनो देश पर्दे के पीछे से और निर्धारित तंत्र के तहत कूटनीतिक व सैन्य स्तर पर लगातार बात कर रहे हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Less probability of meeting of MEA S Jaishankar and his Chinese counterpart Wang Yi at the SCO meeting