ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशकुमारस्वामी का यूटर्न, अमेरिकी कंपनी को सब्सिडी देने का किया था विरोध; जानें क्या है मामला

कुमारस्वामी का यूटर्न, अमेरिकी कंपनी को सब्सिडी देने का किया था विरोध; जानें क्या है मामला

उन्होंने कहा कि मेरी बात को गलत तरीके से पेश किया गया है। मैंने किसी राज्य का उल्लेख नहीं किया है। मेरे बयान को इस तरह क्यों उठाया गया? मुझे भविष्य में बहुत सतर्क रहना होगा।

कुमारस्वामी का यूटर्न, अमेरिकी कंपनी को सब्सिडी देने का किया था विरोध; जानें क्या है मामला
Himanshu Jhaलाइव हिन्दुस्तान,बेंगलुरु।Sat, 15 Jun 2024 12:14 PM
ऐप पर पढ़ें

केंद्रीय मंत्री एचडी कुमारस्वामी ने अपने बयान पर सफाई दी है। उन्होंने कहा था कि अमेरिकी सेमीकंडक्टर कंपनी माइक्रोन टेक्नोलॉजी को कंपनी के द्वारा गुजरात में दी जानी हर नौकरी पर सब्सिडी मिलती है। अब उन्होंने अपने बयान पर स्पष्टीकरण देते हुए कहा, "सेमीकंडक्टर सेक्टर में भारत में निवेश लाना रणनीति का हिस्सा है। हमें इसकी आवश्यकता है। हमें दूसरी पंक्ति के क्षेत्र, हमारे लघु उद्योग के लिए नौकरियां पैदा करनी होंगी। हम ऐसा करने का सोच रहे हैं और इस पर काम कर रहे हैं।''

उन्होंने कहा कि मेरी बात को गलत तरीके से पेश किया गया है। मैंने किसी राज्य का उल्लेख नहीं किया है। मेरे बयान को इस तरह क्यों उठाया गया? मुझे भविष्य में बहुत सतर्क रहना होगा।

उन्होंने शुक्रवार को हैरानी जताते हुए पूछा था कि क्या भारत को अमेरिका स्थित सेमीकंडक्टर निर्माता माइक्रोन टेक्नोलॉजी जैसे निवेशकों की जरूरत है? उन्होंने कहा था, "नई कंपनी लगभग 5,000 नौकरियां पैदा करेगी। इसके लिए हम उन्हें 2 अरब डॉलर की सब्सिडी दे रहे हैं। अगर आप गणना करें तो यह कंपनी के कुल निवेश का 70% है। मैंने अधिकारियों से पूछा कि इतनी बड़ी राशि का आवंटन करना कितना उचित है। मैं राष्ट्र की संपत्ति की सुरक्षा कैसे की जाए, इस मामले पर गंभीरता से विचार कर रहा हूं।” 

आपको बता दें कि यह कंपनी फिलहाल गुजरात में 2.5 अरब डॉलर की यूनिट स्थापित कर रही है। 

इस्पात और भारी उद्योग विभाग सौंपने के लिए पीएम मोदी को धन्यवाद देते हुए एचडी कुमारस्वामी ने कहा था कि वह देश के युवाओं के लिए रोजगार के अवसर पैदा करने पर ध्यान केंद्रित करेंगे। उन्होंने कहा, “मैं राज्य के बाहर भी रोजगार के अवसर उपलब्ध करा सकता हूं। आपको ट्रांसफर के लिए तैयार रहना चाहिए।” 

कर्नाटक के पूर्व सीएम ने कहा कि उन्हें केंद्र की शासन व्यवस्था को समझने के लिए लगभग 15 दिनों की आवश्यकता होगी। कुमारस्वामी ने कर्नाटक में कांग्रेस की गारंटी योजनाओं की आलोचना करते हुए कहा कि वह लोगों को मुफ्त में भोजन पर निर्भर बनाने के बजाय रोजगार प्रदान करके आत्मनिर्भरता को बढ़ावा देने में विश्वास करते हैं। 
 

Advertisement