DA Image
9 अप्रैल, 2020|4:18|IST

अगली स्टोरी

कुलदीप सेंगर केस: रेप पीड़िता के पिता का इलाज करने वाले डॉक्टर की मौत

बहुचर्चित उन्नाव रेप केस में पीड़िता के पिता के इलाज में लापरवाही बरतने वाले डॉ. प्रशांत उपाध्याय की सोमवार को जिला अस्पताल में हृदय गति रुकने से मौत हो गई। वह नौ महीने से बीमार चल रहे थे। पीड़िता के पिता की मौत के बाद मामले में सीबीआई जांच बैठी थी तो डॉ. प्रशांत पर लापरवाही का आरोप लगा था। वह जिला अस्पताल की इमर्जेंसी में ईएमओ पद पर तैनात थे। उस समय एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें वह हंसते हुए दिख रहे थे। सीबीआई की जांच रिपोर्ट पर उन्हें 12 अप्रैल 2018 को निलंबित कर दिया गया था। 9 महीने बाद वह बहाल हुए और फतेहपुर जिला अस्पताल में तैनाती हुई। 

शहर कोतवाली क्षेत्र के मोतीनगर निवासी डॉ. प्रशांत उपाध्याय फतेहपुर जिला अस्पताल के ब्लड बैंक में कार्यरत थे। डॉक्टर मूलत: लखनऊ के राजाजीपुरम के रहने वाले थे। परिजनों के मुताबिक नौ माह से उनकी तबीयत खराब चल रही थी। परिजन इधर उधर इलाज करवा रहे थे। सोमवार सुबह हालत बिगड़ने पर परिजन डॉक्टर को लेकर जिला अस्पताल की इमर्जेंसी लेकर पहुंचे, जहां ईएमओ शैलेश त्रिपाठी ने डॉ. प्रशांत को मृत घोषित कर दिया। मामला संदिग्ध देख अस्पताल प्रशासन ने पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। डॉ. प्रशांत अपने पीछे पत्नी गरिमा व छह वर्षीय बेटे बेहान को छोड़ गए हैं। 

डॉक्टर की मौत पर कंडोलेंस

डॉक्टर की मौत की खबर मिलते ही जिला अस्पताल में शोक की लहर दौड़ गई। सभी डॉक्टर व कर्मियों ने मौत पर गहरा शोक व्यक्त किया और कहा यह उनके लिए अपूर्णनीय क्षति है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:kuldeep singh sengar unnao case doctor who treated rape victim s father dies