DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कुलभूषण जाधव की फांसी पर लगी रोक, मगर अब फैसले के बाद क्या होगा?

Former Navy officer Kulbhushan Jadhav (file pic)

पाकिस्तान की जेल में तीन साल से बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव के मामले में बुधवार को सुकून देने वाली खबर आई। नीदरलैंड की हेग स्थित अंतरराष्ट्रीय अदालत ने पाकिस्तान की दलीलों को खारिज करते हुए जाधव को फांसी देने पर रोक लगा दी। अदालत ने साफ कहा कि पाकिस्तान को जाधव की सजा पर पुनर्विचार करना होगा और उन्हें राजनयिक मदद भी देनी होगी।

यह भी पढ़ें- कुलभूषण जाधव की फांसी की सजा पर लगाने वाले 15 जजों की लिस्ट

इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (आईसीजे) के जज अब्दुलकावी अहमद यूसुफ की अगुवाई वाली 16 सदस्यीय पीठ ने 15-1 के बहुमत से फैसला सुनाया। सिर्फ पाक के एडहॉक जज जिलानी ने असहमति जताई। हालांकि, अब सवाल उठता है कि इंटरनेशनल कोर्ट के इस फैसले के बाद अब आगे क्या होगा?. जानकारों की मानें तो पाकिस्तान को दबाव में किसी तरह कोर्ट का यह फैसला मानना होगा।

दरअसल, आईसीजे के फैसले पर न तो पुनर्विचार हो सकता है और न ही अपील की जा सकती है। दबाव में पाक को फैसला मानने पर मजबूर होना पड़ेगा। हालांकि, पाक नई आपत्ति लेकर नए सिरे से याचिका दायर कर सकता है। इससे नए सिरे से टकराव पैदा होगी।

यह भी पढ़ें- कुलभूषण मामले में बुरा फंसा पाक, जानें कैसे कोर्ट से मिले 3 बड़े झटके

इससे पहले पीठ ने कहा कि पाकिस्तान ने भारत को कुलभूषण सुधीर जाधव से संवाद करने नहीं दिया। हिरासत के दौरान उनसे मिलने और उनका कानूनी पक्ष रखने की व्यवस्था करने के अधिकार से वंचित रखा। भारत ने कई बार राजनयिक पहुंच का अनुरोध किया जिससे पाक ने इनकार कर दिया। यह निर्विवाद तथ्य है कि पाकिस्तान ने भारत की अपीलों को नहीं माना। ऐसा करके पाकिस्तान ने वियना समझौते का उल्लंघन किया। उसे जाधव की गिरफ्तारी और उन्हें हिरासत में रखने के बारे में भारत को जानकारी देनी चाहिए थी। पाकिस्तान ने गिरफ्तारी के तीन सप्ताह बाद तीन मार्च 2016 को जानकारी दी जो कि गलत था। .

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:kulbhushan jadhav case international court of justice Harish Salve