DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Arun Jaitley passes away: BJP के 'थिंक टैंक' थे अरुण जेटली, जानें उनके बारे में 10 बातें

former union finance minister arun jaitley died at delhi   s all india institute of medical sciences o

भारतीय जनता पार्टी के 'थिंक टैंक' के रूप में मशहूर अरुण जेटली ने दिल्ली विश्विद्यालय के छात्र आंदोलन से अपनी राजनीतिक पहचान बनाई और करीब चार दशक तक भारतीय राजनीति में छाये रहे। इसके अलावा उन्होंने वित्त मंत्री के तौर पर देश की अर्थव्यवस्था को नई दिशा प्रदान की।

 

पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का निधन, एम्स में ली अंतिम सांस

जानें जेटली के बारे में 10 बातें

1- 28 दिसंबर 1952 को नयी दिल्ली में जन्में जेटली न केवल एक चर्चित वकील रहे बल्कि वह संसद में सरकार के 'संकट मोचक' वक्ता के रूप में भी जाने जाते थे। 
2-वर्ष 1974 में दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ के अध्यक्ष के रूप में निर्वाचित होने के बाद उन्हें आपातकाल के दौरान जेल में भी रहना पड़ा और इसके बाद धीरे-धीरे वह राजनीतिक की सीढ़िया चढ़ते हुए शीर्ष पर पहुंच गये। उन्होंने केंद्र सरकार के कई प्रमुख मंत्रालयों का प्रभार संभाला और वर्ष 2014 से 2019 तक भारत के वित्त एवं कॉपोर्रेट मामालों के मंत्री रहे।  

3- जेटली ने अटल बिहारी वाजपेयी और नरेंद्र मोदी की सरकार में वित्त, रक्षा, कॉपोर्रेट, वाणिज्य एवं उद्योग, कानून एवं न्याय से संबंधित मंत्रालयों का प्रभार संभाला था। वह वर्ष 2009 से 2014 तक राज्यसभा में विपक्ष के नेता रहे। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में वरिष्ठ अधिवक्ता के रूप में भी योगदान दिया। उन्होंने इस वर्ष राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के सत्ता में वापसी करने के बाद अपनी स्वास्थ्य समस्याओं के कारण श्री मोदी के मंत्रिमंडल में शामिल नहीं होने का निर्णय लिया। 

4- पूर्व वित्त मंत्री वर्ष 1991 से ही भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य थे। वह वर्ष 1999 के आम चुनाव से पहले भाजपा के प्रवक्ता थे। उन्हें वर्ष 1999 में भाजपा के नेतृत्व वाली राजग के सत्ता में आने के बाद सूचना एवं प्रसारण (स्वतंत्र प्रभार) मंत्री बनाया गया। उन्हें विनिवेश राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भी बनाया गया था। 

Arun Jaitley Dies: सोनिया गांधी ने जेटली के निधन पर लिखा ये भावुक संदेश

5- जेटली को 23 जुलाई 2000 को कानून, न्याय एवं कंपनी मामलों के मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया। उन्हें यह अतिरिक्त प्रभार उस समय के कानून, न्याय एवं कंपनी मामलों के मंत्री राम जेठमलानी के इस्तीफे के बाद सौंपा गया था। 

6- पूर्व केंद्रीय मंत्री ने वर्ष 1957 से 69 तक दिल्ली के सेंट जेवियर्स स्कूल में पढ़ाई की। उन्होंने वर्ष 1973 में नयी दिल्ली के श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से कॉमर्स से स्नातक किया और वर्ष 1977 में दिल्ली विश्वविद्यालय से ही एलएलबी की डिग्री प्राप्त की। 

7- जेटली 70 के दशक में दिल्ली विश्वविद्यालय में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के छात्र नेता थे और 1974 में दिल्ली विश्वविद्यालय के छात्र संघ के अध्यक्ष बने। उन्हें वर्ष1 975-77 के आपातकाल के दौरान 19 महीनों तक हिरासत में रखा गया। 

8- पूर्व वित्त मंत्री वर्ष 1973 में राज नारायण और जयप्रकाश नारायण द्वारा भ्रष्टाचार के खिलाफ शुरू किये गये आंदोलन के एक प्रमुख नेता के रूप में उभरे थे। वह नारायण द्वारा गठित नेशनल कमिटी फॉर स्टूडेंट्स एंड यूथ आगेर्नाइजेशन के संयोजक भी रहे और नागरिक अधिकारों से संबंधित आंदोलन में भी सक्रिय थे। जेल से रिहा होने के बाद वह जनसंघ में शामिल हो गये।

9- जेटली वर्ष 1982 में जम्मू-कश्मीर के पूर्व वित्त मंत्री गिरधारी लाल डोगरा की पुत्री संगीता के साथ परिणय सूत्र में बंध गये थे।श्री जेटली के परिवार में पत्नी,बेटा रोहन और बेटी सोनाली है। 

10- जेटली का शनिवार को यहां अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में निधन हो गया। वह 67 वर्ष के थे।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Know 10 things about fomer minister and bjp leader arun jaitley passes away at 66