ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशहथियार उठा लो और हमले करो, अब किसानों को उकसा रहा खालिस्तानी गुरपतवंत सिंह पन्नू

हथियार उठा लो और हमले करो, अब किसानों को उकसा रहा खालिस्तानी गुरपतवंत सिंह पन्नू

Kisan Andolan: पंजाब, हरियाणा और उत्तर भारत के अलग-अलग हिस्सों के किसान दिल्ली की ओर कूच की कोशिश कर रहे हैं। किसान शंभू और खनौरी सीमा पर डटे हैं। वे MSP पर गारंटी समेत कई मांगें कर रहे हैं।

हथियार उठा लो और हमले करो, अब किसानों को उकसा रहा खालिस्तानी गुरपतवंत सिंह पन्नू
Nisarg Dixitलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 19 Feb 2024 08:56 AM
ऐप पर पढ़ें

Kisan Andolan: खालिस्तानी गुरपतवंत सिंह पन्नू अब आंदोलन कर रहे किसानों को उकसाता हुआ नजर आ रहा है। खबर है कि रविवार को सरकार के साथ वार्ता से पहले उसने एक वीडियो जारी किसानों को हथियार मुहैया कराने की भी पेशकश की थी। हालांकि, इसे लेकर पुलिस की तरफ से आधिकारिक तौर पर कुछ नहीं कहा गया है। फिलहाल, किसानों ने सरकार की तरफ से MSP यानी न्यूनतम समर्थन मूल्य पर मिले प्रस्ताव पर चर्चा करने की बात कही है। साथ ही दो दिनों के लिए 'दिल्ली चलो' मार्च को भी दो दिनों के लिए रोका गया है।

न्यूज18 की एक रिपोर्ट के अनुसार, पन्नू ने रविवार को किसान और सरकार के बीच हुई बातचीत से पहले एक वीडियो जारी किया था। रिपोर्ट के मुताबिक, इस वीडियो में उसने शंभू और खनौरी सीमा पर आंदोलन कर रहे किसानों से पुलिस अधिकारियों पर हमले की अपील की थी। साथ ही उसने कहा था कि इस हमले के लिए हथियार करतारपुर सीमा पर हथियार उपलब्ध रहेंगे।

रिपोर्ट के मुताबिक, पन्नू का कहना था, 'भारतीय गोलियों से लड़ने के लिए खुद हथियार उठा लें। पाकिस्तान के पास करतारपुर सीमा पर हथियार उपलब्ध हैं।' रिपोर्ट में शीर्ष खुफिया सूत्रों के हवाले से कहा जा रहा है कि यह किसानों को उकसाने की कोशिश थी। आधिकारिक सूत्रों ने कहा, 'किसान अपने अधिकारों के तहत विरोध कर रहे हैं। कोई भी किसान SFJ की बात नहीं सुनेगा। केंद्र सरकार किसानों की परेशानियां सुलझाने के लिए प्रतिबद्ध है और बातचीत जारी है।'

6 दिनों से जारी है प्रदर्शन
पंजाब, हरियाणा और उत्तर भारत के अलग-अलग हिस्सों के किसान दिल्ली की ओर कूच की कोशिश कर रहे हैं। फिलहाल, किसान शंभू और खनौरी सीमा पर डटे हुए हैं। हालांकि, हाल ही में किसानों ने कहा है कि सरकार की तरफ से मिले प्रस्तावों पर दो दिनों में विचार किया जाएगा और इसके बाद कोई फैसला लिया जाएगा।

रविवार को किसानों के ताजा प्रदर्शन को 6 दिन पूरे हो चुके हैं। ये किसान MSP पर कानूनी गारंटी, कर्ज माफी समेत कई मांगें केंद्र सरकार से कर रहे हैं।

पांच साल के समझौते का प्रस्ताव
गोयल ने किसान नेताओं के साथ वार्ता समाप्त होने के बाद रविवार देर रात कहा कि सरकार ने सहकारी समितियों NCCF (भारतीय राष्ट्रीय उपभोक्ता सहकारी संघ मर्यादित) और NAFED (भारतीय राष्ट्रीय कृषि सहकारी विपणन संघ) को MSP पर दालें खरीदने के लिए किसानों के साथ पांच साल का समझौता करने का प्रस्ताव दिया है।

उन्होंने कहा कि इसके अलावा भारतीय कपास निगम (CCI) द्वारा एमएसपी पर कपास की फसल खरीदने के लिए किसानों के साथ पांच साल का समझौता करने का प्रस्ताव दिया गया है। गोयल ने बताया कि किसान नेता सरकार के प्रस्तावों पर अपने निर्णय के बारे में सोमवार तक सूचित करेंगे। गोयल ने बैठक समाप्त होने के बाद कहा कि किसानों के साथ वार्ता सद्भावनापूर्ण माहौल में हुईं।

उन्होंने कहा, ‘हमने सहकारी समितियों एनसीसीएफ और नाफेड को एमएसपी पर दालें खरीदने के लिए किसानों के साथ पांच साल का समझौता करने का प्रस्ताव दिया है।’ गोयल ने कहा, ‘हमने प्रस्ताव दिया है कि भारतीय कपास निगम (CCI) एमएसपी पर कपास की फसल खरीदने के लिए किसानों के साथ पांच साल का समझौता करेगा।’

(एजेंसी इनपुट के साथ)

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें