ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशकेरल में PFI को ट्रेनिंग दे रहा दमकल विभाग! विवाद बढ़ा, BJP ने उठाए सवाल

केरल में PFI को ट्रेनिंग दे रहा दमकल विभाग! विवाद बढ़ा, BJP ने उठाए सवाल

पीएफआई कट्टरपंथी संगठन है, जिसकी शुरुआत केरल में साल 2000 में हुई थी। कर्नाटक में हाल ही में हुए हिजाब विवाद में भी संगठन की भूमिका संदिग्ध रही है। सोशल डेमोक्रेटिक फ्रंट ऑफ इंडिया (SDPI), PFI की राजन

केरल में PFI को ट्रेनिंग दे रहा दमकल विभाग! विवाद बढ़ा, BJP ने उठाए सवाल
लाइव हिंदुस्तान,तिरुवनंतपुरमSat, 02 Apr 2022 12:48 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

केरल में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के कार्यकर्ताओं को दमकल अधिकारियों की तरफ से ट्रेनिंग दिए जाने का मामला सामने आया है। इससे जुड़े कुछ वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुए थे, जिसके बाद राज्य में नया सियासी बवाल खड़ा हो गया है। इधर, भारतीय जनता पार्टी मुख्यमंत्री पिनराई विजयन की वाम सरकार पर सवाल उठाए हैं। वहीं, राज्य सरकार ने भी दमकल विभाग से रिपोर्ट की मांग की थी।

बीते सप्ताह कोझिकोड से उठे इस विवाद पर सबसे पहले भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष के सुरेंद्रन ने प्रतिक्रिया दी थी। उन्होंने ट्वीट किया था, 'केरल फायर एंड रेस्क्यू सर्विस ने कट्टरपंथी इस्लामिक संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के सदस्यों को ट्रेनिंग दी। पीएफआई और एसडीपीआई कई आतंकी गतिविधियों में शामिल रहे हैं। पिनराई विजयन की सरकार इन जिहादी हलों को रेड कॉर्पेट दे रही है।' उन्होंने अपने ट्वीट में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को टैग किया।

इधर, केरल सरकार ने दमकल डीजीपी बी संध्या से मामले में रिपोर्ट दाखिल करने के लिए कहा था। अपनी रिपोर्ट में अधिकारी ने कहा कि यह बल की तरफ से बड़ी चूक है और शामिल अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। जबकि, अधिकारियों का कहना है कि उन्हें कोझिकोड में पीएफआई के सांस्कृतिक कार्यक्रम में बुलाया गया था और वहां कुछ कार्यकर्ताओं की मांग पर बचाव के प्रयासों को लेकर टिप्स दी।

पीएफआई कट्टरपंथी संगठन है, जिसकी शुरुआत केरल में साल 2000 में हुई थी। कर्नाटक में हाल ही में हुए हिजाब विवाद में भी संगठन की भूमिका संदिग्ध रही है। सोशल डेमोक्रेटिक फ्रंट ऑफ इंडिया (SDPI), PFI की राजनीतिक शाखा है।

पहले भी हो चुका है विवाद!
बीते महीने इडुक्की जिले से एक सिविल पुलिस अधिकारी को SDPI  नेताओं को जानकारी लीक करने के आरोप में बर्खास्त किया गया था। आंतरिक जांच में सामने आया था कि करीमनूर पुलिस स्टेशन के पीके अनस ने भाजपा और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के 150 कार्यकर्ताओं की जानकारी लीक की थी। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें