DA Image
Wednesday, December 1, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशCM केजरीवाल का धरना: राहुल गांधी का मोदी पर निशाना

CM केजरीवाल का धरना: राहुल गांधी का मोदी पर निशाना

नई दिल्ली, प्रमुख संवाददाता Arif Khan
Mon, 18 Jun 2018 07:24 PM
CM केजरीवाल का धरना: राहुल गांधी का मोदी पर निशाना

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एलजी हाउस में धरने पर बैठे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को लेकर पहली बार सोमवार को बयान दिया है। अपने एक ट्वीट में राहुल गांधी ने कहा, दिल्ली में 'अराजकता' से जनता परेशान है और प्रधानमंत्री ने आंखे मूंद ली हैं। राहुल के अलावा दूसरे दलों के नेताओं ने भी आम आदमी पार्टी को सहयोग देने का भरोसा दिलाया है।

बता दें, आम आदमी पार्टी ने दिल्ली सरकार के इस धरने को समर्थन देने के लिए कई राजनीतिक दलों के नेताओं से संपर्क किया था। इनमें से कुछ नेताओं ने ट्वीट कर अपना समर्थन दिया तो कई नेता आप सरकार में उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया का हाल-चाल जानने के लिए अस्पताल पहुंचे। इससे पहले शनिवार को चार राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने केजरीवाल के आवास पर जाकर अपनी पार्टी के समर्थन का भरोसा दिया था।

सुरक्षा पर केजरीवाल के आश्वासन के बाद बोले IAS अधिकारी: चर्चा को तैयार

इस सारी मुहिम में आप को इस बात का बड़ा मलाल था कि कांग्रेस पार्टी की ओर से कोई भी नेता उनके साथ नहीं आया। न तो किसी नेता ने ट्वीट कर कोई बात कही और न ही कोई नेता केजरीवाल के घर पहुंचा। इतना ही नहीं, रविवार को पार्टी के विरोध प्रदर्शन में भी कांग्रेस की ओर से कोई नहीं आया। यहां तक कि आम आदमी पार्टी ने अपनी अपील में भी कहा था कि कांग्रेस पार्टी सहित दूसरे दलों को इस बात के लिए केंद्र सरकार की आलोचना करनी चाहिए कि वह प्रचंड बहुमत से सत्ता में आई आप सरकार को काम नहीं करने दे रही है। 

खुद केजरीवाल ने अपने ट्वीट में कहा था कि पुडुचेरी में कांग्रेस सरकार के साथ जो कुछ हुआ, हमनें उसका विरोध किया था। वहां पर एलजी किरण बेदी भी वही कर रही हैं, जो अनिल बैजल दिल्ली में कर रहे हैं। आप ने कई बार यह मुद्दा उठाया कि दिल्ली के साथ पुडुचेरी को भी पूर्ण राज्य का दर्जा मिले। आप नेताओं ने कहा, कांग्रेस को हमारे समर्थन के लिए आगे आना चाहिए। यहां तक कि केजरीवाल ने एक ऐसे ट्वीट को रि-ट्वीट किया, जिसमें लिखा था कि अगर कांग्रेस पार्टी दिल्ली में आप के धरने को समर्थन न दे तो केजरीवाल को राजस्थान और मध्यप्रदेश के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को जवाब देना चाहिए। केजरीवाल इन दोनों राज्यों में अलग से चुनाव प्रचार कर कांग्रेस पार्टी के वोट का बिखराव सुनिश्चित करें। 

सत्येंद्र जैन के बाद मनीष सिसोदिया की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती

आप नेताओं ने राहुल गांधी के ट्वीट पर कहा, हम चाहते हैं कि लोकतंत्र के हिमायती सभी दलों को दिल्ली सरकार का साथ देना चाहिए। राहुल गांधी ने ट्वीट किया, दिल्ली के मुख्यमंत्री उपराज्यपाल कार्यालय में धरने पर बैठे हैं। भाजपा मुख्यमंत्री कार्यालय में धरने पर बैठी है। दिल्ली के नौकरशाह संवाददाता सम्मेलन संबोधित कर रहे हैं। ऐसे माहौल में प्रधानमंत्री मोदी 'अराजकता और अव्यवस्था' को सुलझाने के लिए पहल करने की बजाय आंखे मूंद कर बैठे हैं। गांधी ने कहा कि दिल्ली में जो नाटक चल रहा है उससे जनता परेशान है। इससे पहले कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने कहा, दिल्ली में जो हो रहा है, वह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है। हम स्थिति पर नजर रखे हुए हैं। 

दूसरे दलों के कई नेता आए आप के साथ 
दिल्ली में आप सरकार और उपराज्यपाल के बीच खींचतान के मद्देनजर शिवसेना के प्रमुख उद्धव ठाकरे ने रविवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से बात की है। ठाकरे ने कहा, दिल्ली के लोगों द्वारा निर्वाचित सरकार को बिना किसी बाधा के अपना कामकाज करने की अनुमति दी जानी चाहिए। हालांकि बाद में शिव सेना द्वारा एक बयान जारी कर कहा गया कि इसका यह मतलब नहीं है कि राजग का एक प्रमुख घटक शिवसेना, केजरीवाल और आप का समर्थन कर रही है। आप की प्रवक्ता प्रीति शर्मा मेनन ने कहा, तमाम मतभेदों को दूर रखते हुए लोकतंत्र के लिए खड़े होने वाली इन पार्टियों ने एक अच्छी राजनीतिक सूझबूझ का परिचय दिया है। आप ने दिल्ली में लोकतंत्र की अभूतपूर्व हत्या के खिलाफ समर्थन देने के लिए शिवसेना और राज ठाकरे के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) का धन्यवाद किया है।  

पेट्रोल-डीजल पर शुल्क कटौती नहीं, ईमानदारी से करें कर का भुगतानः जेटली

किसने क्या कहा
आचार्य परमोधक ने कहा, भारत के राजनीतिक इतिहास में यह आपातकाल से भी अत्यंत विचित्र स्थिति है। सीपीआई के राष्ट्रीय सचिव और राज्यसभा सांसद डी. राजा सोमवार को एलएनजेपी अस्पताल में भर्ती उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया व स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन का हालचाल जानने पहुंचे। उन्होंने कहा, एक चुनी हुई सरकार के साथ केंद्र सरकार का यह व्यवहार लोकतंत्र के खिलाफ है। यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी दिल्ली सरकार के साथ हो रही ज्यादती को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा। इसके अलावा सपा नेता एवं राज्यसभा सांसद राम गोपाल यादव दिल्ली सरकार के मंत्रियों का हालचाल जानने के लिए अस्पताल पहुंचे। यादव ने कहा, लोकतंत्र के इतिहास में ऐसा पहली बार सुनने को आया है कि आईएएस अधिकारी हड़ताल पर गए हों, क्या यह सर्विस रूल का उल्लंघन नहीं है। 

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें