DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल पर पत्थर रख जनता ने कांग्रेस का साथ दिया: बसपा प्रमुख मायावती

मायावती

बसपा प्रमुख मायावती ने बुधवार को कहा कि मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में भाजपा की गलत नीतियों से बेहद दुखी होने के कारण जनता ने कांग्रेस को दिल पर पत्थर रखकर, न चाहते हुए भी समर्थन दिया है। हालांकि, इसके साथ ही उन्होंने मध्यप्रदेश और राजस्थान में कांग्रेस को समर्थन देने की घोषणा की। 

मायावती ने एक बयान जारी कर कहा, बसपा ने यह चुनाव भाजपा को सत्ता से बाहर करने के लिए लड़ा था, लेकिन दुःख की बात यह है कि हमारी पार्टी अपने इस मकसद में कामयाब नहीं हो सकी। उन्होंने आरोप लगाया कि मध्य प्रदेश में अभी भी भाजपा सत्ता में आने के लिए जोड़-तोड़ में लगी है। इसलिए भाजपा को रोकने लिए बसपा ने कांग्रेस की सोच और नीतियों से सहमत ना होते हुए भी सरकार गठन में साथ देने का फैसला किया है। 

विधानसभा चुनाव जीत को पूरे देश में मिसाल के तौर पर पेश करेगी कांग्रेस

बसपा प्रमुख ने कहा, यदि इस मामले में राजस्थान में भी कांग्रेस को बसपा के समर्थन जरूरत महसूस हुई, तो वहां भी भाजपा को सत्ता में आने से रोकने के लिए कांग्रेस को समर्थन दिया जा सकता है। उन्होंने कहा, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, और राजस्थान में जनता केंद्र और संबंधित राज्य सरकारों की गलत नीतियों से इतना ज्यादा दुःखी हो गई थी। वह किसी भी कीमत पर भाजपा को फिर से सत्ता में वापस आते नहीं देखना चाहती थी। इसलिए लोगों ने न चाहते हुए भी कांग्रेस का साथ दिया। मायावती ने कहा कि कांग्रेस लोकसभा चुनाव में भी जनता की इसी मजबूरी का लाभ उठाने की कोशिश करेगी। 

मायावती ने इसके साथ ही पार्टी कार्यकर्ताओं से अगले साल लोकसभा चुनाव के लिए अभी से जुटने का आह्वान किया। गौरतलब है कि मध्य प्रदेश और राजस्थान में भाजपा तथा कांग्रेस में से किसी दल को पूर्ण बहुमत नहीं मिला है। जबकि बसपा को मध्य प्रदेश में दो और राजस्थान में छह सीटें मिली है। मध्य प्रदेश में कांग्रेस को सरकार बनाने के लिए दो मतों की और राजस्थान में एक मत की जरूरत है। 

MP में 'हाथ' को 'हाथी' का समर्थन, सरकार बनाने को कांग्रेस की राह आसान

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Keeping stones on the heart of the people supported Congress: BSP chief Mayawati