ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशहत्या के दोषी ने जेल कोठरी में निगल लिया मोबाइल, 20 दिनों तक पेट में रखा; डॉक्टर भी रह गए हैरान

हत्या के दोषी ने जेल कोठरी में निगल लिया मोबाइल, 20 दिनों तक पेट में रखा; डॉक्टर भी रह गए हैरान

विक्टोरिया अस्पताल के डॉक्टरों ने अल्ट्रासाउंड स्कैन किया और पाया कि परशुराम के पेट में एक बाहरी वस्तु मौजूद है। 25 अप्रैल को, उन्होंने बाहरी वस्तु निकालने के लिए उसका पेट काटकर सर्जरी की।

हत्या के दोषी ने जेल कोठरी में निगल लिया मोबाइल, 20 दिनों तक पेट में रखा; डॉक्टर भी रह गए हैरान
Amit Kumarलाइव हिन्दुस्तान,शिवमोग्गाThu, 02 May 2024 03:15 PM
ऐप पर पढ़ें

कर्नाटक की जेल से हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां एक कैदी ने मोबाइल फोन निगल लिया जिसके बाद उसका ऑपरेशन करना पड़ा। कर्नाटक की शिवमोग्गा जिला जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहे हत्या के दोषी 38 वर्षीय परशुराम ने जेल की कोठरी में छापेमारी के दौरान पूरा मोबाइल फोन निगल लिया।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, घटना अप्रैल के पहले सप्ताह के आसपास की है। मोबाइल फोन निगलने के बाद उसे पेट दर्द की शिकायत होने लगी लेकिन उसने इसका कारण नहीं बताया। पुलिस दोषी को शिवमोग्गा के मैकगैन टीचिंग डिस्ट्रिक्ट अस्पताल ले गई और बाद में बेंगलुरु के विक्टोरिया अस्पताल में शिफ्ट कर दिया गया। विक्टोरिया अस्पताल के डॉक्टरों ने अल्ट्रासाउंड स्कैन किया और पाया कि परशुराम के पेट में एक बाहरी वस्तु मौजूद है। 25 अप्रैल को, उन्होंने बाहरी वस्तु निकालने के लिए उसका पेट काटकर सर्जरी की।

75 मिनट तक चले ऑपरेशन के बाद डॉक्टर हैरान रह गए और आखिरकार उन्हें पेट दर्द का कारण पता चला। डॉक्टरों ने पाया कि एक कीपैड मोबाइल फोन उसके पाइलोरस में फंस गया था। पाइलोरस वह मांसपेशी है जिससे पेट में आंत का रास्ता बंद हो जाता है और भोजन को पेट में ही रखता है। सर्जनों ने फोन हटा दिया। डॉक्टरों ने पाया कि मोबाइल फोन परशुराम के पेट में पिछले 20 दिनों से था।

एक डॉक्टर ने कहा कि चीनी मोबाइल फोन इतना छोटा था कि वह गले और ग्रासनली से होकर गुजर गया था। उन्होंने कहा, “हमने सोचा कि इसे तो उल्टी करके निकाला जा सकता था, यहां तक कि परशुराम ने भी इसे निगलते समय ऐसा ही सोचा होगा। हालांकि, मोबाइल तीसरे संकीर्ण बिंदु, पाइलोरस में फंस गया था।” 

सर्जरी के बाद, परशुराम को निगरानी में रखा गया और जब डॉक्टरों ने पुष्टि की कि वह स्वस्थ हैं तो उसे वापस शिवमोग्गा जेल भेज दिया गया। इस बीच, तुंगनगर पुलिस ने जेल में मोबाइल फोन की तस्करी के आरोप में परशमुरा के खिलाफ मामला दर्ज किया है। एक पुलिस अधिकारी ने कहा, “मोबाइल फोन, ड्रग्स और अन्य पदार्थों की जांच के लिए जेल के अंदर तलाशी अभियान नियमित है। हालांकि, उनमें से अधिकांश इसे शौचालयों या अन्य स्थानों पर छिपा देते हैं जहां कोई जांच नहीं करता है। लेकिन परशुराम ने उसे निगल लिया था।”