ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशरिपोर्ट नफरत पैदा कर सकती है, लेकिन कठोर कदम न उठाए सरकार; HC ने सुधीर चौधरी को दी राहत

रिपोर्ट नफरत पैदा कर सकती है, लेकिन कठोर कदम न उठाए सरकार; HC ने सुधीर चौधरी को दी राहत

कर्नाटक पुलिस ने राज्य सरकार की वाणिज्यिक वाहन रियायत योजना के बारे में गलत जानकारी देने के आरोप में एक हिंदी समाचार चैनल और उसके सलाहकार संपादक सुधीर चौधरी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है।

रिपोर्ट नफरत पैदा कर सकती है, लेकिन कठोर कदम न उठाए सरकार; HC ने सुधीर चौधरी को दी राहत
Amit Kumarलाइव हिन्दुस्तान,बेंगलुरुFri, 15 Sep 2023 04:59 PM
ऐप पर पढ़ें

कर्नाटक हाईकोर्ट ने शुक्रवार को न्यूज एंकर सुधीर चौधरी को अंतरिम राहत दे दी। कोर्ट ने मौखिक रूप से कहा कि पत्रकार एंकर सुधीर चौधरी के खिलाफ जांच के लिए "प्रथम दृष्टया मामला" बनता है। हालांकि कोर्ट ने कर्नाटक सरकार को निर्देश दिया कि वह सुधीर चौधरी के खिलाफ कोई कठोर कदम न उठाए। सुधीर चौधरी ने कर्नाटक पुलिस द्वारा उनके खिलाफ दायर प्राथमिकी को रद्द करने के लिए कल उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था।

लाइव लॉ की रिपोर्ट के मुताबिक कोर्ट ने कहा, "मीडिया की भूमिका जानकारी प्रदान करना है लेकिन यह वह जानकारी नहीं है जो प्रदान की जानी है। ऐसा नहीं है कि लाभ केवल अल्पसंख्यकों को दिया जाता है...यह केवल अल्पसंख्यकों तक ही सीमित नहीं है। आरोप यह लगाया गया कि सरकार केवल अल्पसंख्यकों को योजना प्रदान कर रही है और हिंदुओं को वंचित कर रही है। इसलिए प्रथम दृष्टया यह जांच का मामला है।"
 
हालांकि, न्यायमूर्ति हेमंत चंदनगौदर की सिंगल पीठ ने कहा कि हिरासत में पूछताछ की कोई आवश्यकता नहीं है। इसलिए कर्नाटक पुलिस अगले सप्ताह मामले के अंतिम निपटान तक सुधीर चौधरी के खिलाफ कोई कठोर कदम न उठाए।" बता दें कि समाचार चैनल आजतक ने भी एक अलग याचिका में हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। आज दोनों याचिकाओं पर एक सामान्य आदेश पारित किया गया।

क्या बोला हाईकोर्ट

सुधीर चौधरी के वकील वरिष्ठ अधिवक्ता उदय होल्ला ने दावा किया कि कथित समाचार रिपोर्ट में केवल यह उल्लेख किया गया है कि बजट में सरकार ने दावा किया था कि यह योजना अल्पसंख्यकों और एससी/एसटी समुदायों के लिए खुली होगी, लेकिन जब योजना की घोषणा की गई, तो यह केवल अल्पसंख्यकों तक ही सीमित थी। इस पर उच्च न्यायालय ने कहा कि ऐसा स्पष्टीकरण केवल बाद के प्रसारण में दिया गया था। प्रारंभिक रिपोर्ट में केवल यह उल्लेख किया गया था कि प्रोत्साहन केवल अल्पसंख्यक समुदाय को दिया जा रहा है, हिंदुओं को नहीं।

 पीठ ने मौखिक रूप से टिप्पणी की, "मीडिया की भूमिका जानकारी प्रदान करना है। लेकिन यह जानकारी प्रदान करने का (तरीका) नहीं है... औसत आदमी अल्पसंख्यकों के प्रति भी नफरत विकसित कर सकता है, कह सकता है कि उन्हें (प्रोत्साहन) दिया गया है, मुझे नहीं। ..ऐसा नहीं है कि लाभ केवल अल्पसंख्यकों को दिया जाता है...यहां तक कि कॉर्पोरेट संस्थाओं को भी...यह केवल अल्पसंख्यकों तक ही सीमित नहीं है।''

क्या है पूरा मामला?

कर्नाटक पुलिस ने राज्य सरकार की वाणिज्यिक वाहन रियायत योजना के बारे में गलत जानकारी देने के आरोप में एक हिंदी समाचार चैनल और उसके सलाहकार संपादक सुधीर चौधरी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है। अधिकारियों ने बताया कि कर्नाटक अल्पसंख्यक विकास निगम (केएमडीसी) के सहायक प्रशासक शिवकुमार की शिकायत पर यहां शेषाद्रिपुरम थाने में चैनल और इसके सलाहकार संपादक के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 505 (शरारतपूर्ण बयान) 153 ए (धर्म, जाति, जन्म स्थान, निवास के आधार पर विभिन्न समूहों के बीच शत्रुता को बढ़ावा देना) के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। 

शिकायतकर्ता ने सलाहकार संपादक पर निगम की योजना के बारे में झूठी खबर फैलाने और राज्य में सांप्रदायिक सद्भाव बिगाड़ने की कोशिश करने का आरोप लगाया। सुधीर चौधरी ने प्राथमिकी पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि वह अदालत में लड़ाई के लिए तैयार हैं। उन्होंने ‘एक्स’ पर लिखा, “कर्नाटक में कांग्रेस सरकार द्वारा मेरे खिलाफ प्राथमिकी की जानकारी मिली। सवाल का जवाब एफआईआर? वो भी गैर-जमानती धाराओँ के साथ। यानी गिरफ्तारी की पूरी तैयारी। मेरा सवाल यह था कि स्वावलंबी सारथी योजना में हिंदू समुदाय शामिल क्यों नहीं है? इस लड़ाई के लिए मैं भी तैयार हूं। अब अदालत में मिलेंगे।”

क्या बोले शिकायतकर्ता?

प्राथमिकी के मुताबिक, 11 सितंबर को एक समाचार कार्यक्रम में सलाहकार संपादक ने दावा किया कि कर्नाटक सरकार ऐसी योजना चला रही है जिसका लाभ केवल अल्पसंख्यकों को मिलता है, गैर-अल्पसंख्यक हिंदुओं को नहीं और वह राज्य में अल्पसंख्यक तुष्टिकरण कर रही है। साथ ही उन्होंने यह दावा भी किया कि इससे हिंदुओं के साथ अन्याय हो रहा है।

शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया, 'इस तरह की खबरें प्रकाशित करके हिंदुओं और अन्य धर्मों के बीच नफरत फैलाने का प्रयास किया जा रहा है। यह अशांति का माहौल बनाने और सांप्रदायिक दंगे भड़काने का भी प्रयास है। वह जो बात कह रहे हैं, उससे पूरी तरह वाकिफ होने के बावजूद ऐसी खबरें प्रकाशित कर वह राज्य में सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने की साजिश रच रहे हैं।”

(इनपुट एजेंसी)