DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

JNU विवाद: देशद्रोह में कन्हैया कुमार समेत 10 के खिलाफ चार्जशीट दाखिल

The Delhi Police Monday filed its chargesheet in a court against former Jawaharlal Nehru University

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में देशविरोधी नारेबाजी के मामले में दिल्ली पुलिस ने छात्र संघ (जेएनयूएसयू) के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार समेत 10 लोगों के खिलाफ सोमवार को आरोपपत्र दाखिल किया। इनके खिलाफ देशद्रोह के आरोप में मुकदमा दर्ज किया गया था। अदालत मंगलवार को आरोपपत्र पर फैसला लेगी।

जेएनयू परिसर में 9 फरवरी 2016 को आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान कथित तौर पर भारत विरोधी नारे लगे थे। यह कार्यक्रम संसद हमले के मास्टरमाइंड अफजल गुरु को फांसी की बरसी पर आयोजित किया गया था। 

इस मामले में जेएनयू के पूर्व छात्र उमर खालिद तथा अनिर्बान भट्टाचार्य के अलावा कश्मीरी छात्र आकिब हुसैन, मुजीब हुसैन, मुनीब हुसैन, उमर गुल, रईया रसूल, बशीर भट, बशरत के खिलाफ भी आरोप पत्र दाखिल किए गए। 

JNU देशद्रोह मामला: पुलिस ने कन्हैया, उमर, शेहला रशीद को बनाया आरोपी 

36 अन्य के खिलाफ सबूत अपर्याप्त: पुलिस सूत्रों ने बताया कि आरोपपत्र की कॉलम संख्या-12 में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई) के नेता डी राजा की पुत्री अपराजिता, जेएनयूएसयू की तत्कालीन उपाध्यक्ष शहला राशिद, राम नागा, आशुतोष कुमार और बनोज्योत्सना लाहिरी सहित कम से कम 36 अन्य लोगों के नाम हैं क्योंकि इन लोगों के खिलाफ सबूत अपर्याप्त हैं। मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट सुमित आनंद ने आरोप पत्र सक्षम अदालत में मंगलवार को विचार के लिए सूचीबद्ध किया। 

देशद्रोह समेत कई आरोप: आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 124ए (राजद्रोह), 323 (किसी को चोट पहुंचाने के लिए सजा), 465 (जालसाजी के लिए सजा), 471 (फर्जी दस्तावेज या इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड को वास्तविक के तौर पर इस्तेमाल करना), 143 (गैरकानूनी तरीके से एकत्र समूह का सदस्य होने के लिए सजा), 149 (गैरकानूनी तरीके से एकत्र समूह का सदस्य होना), 147 (दंगा फैलाने के लिए सजा) और 120बी (आपराधिक षड्यंत्र) के तहत आरोप लगाए गए हैं। 

सीसीटीवी फुटेट सबूत के तौर पर पेश: आरोपपत्र में सीसीटीवी के फुटेज, मोबाइल फोन के फुटेज और दस्तावेजी प्रमाण भी हैं। पुलिस का आरोप है कि कन्हैया कुमार ने भीड़ को भारत विरोधी नारे लगाने के लिए उकसाया था।

भाजपा सांसद ने की थी शिकायत : भाजपा के सांसद महेश गिरी और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) की शिकायत पर वसंत कुंज (उत्तर) पुलिस थाने में 11 फरवरी 2016 को अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 124ए तथा 120बी के तहत एक मामला दर्ज किया गया था।

अनुमति न मिलने के बाद भी: एबीवीपी ने कथित आयोजन को राष्ट्र विरोधी बताते हुए शिकायत की थी जिसके बाद विश्वविद्यालय प्रशासन ने इसकी अनुमति रद्द कर दी थी। इसके बावजूद यह आयोजन हुआ था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Kanhaiya Kumar charged in JNU sedition case says it is pre poll politics