Kamlesh Tiwari Murder Live Uttar Pradesh DGP OP Singh Press Conference - कमलेश तिवारी हत्याकांड: सूरत से 3 आरोपी हिरासत में, हत्या का आतंकी संगठन से कोई संबंध नहीं DA Image
17 नबम्बर, 2019|6:55|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कमलेश तिवारी हत्याकांड: सूरत से 3 आरोपी हिरासत में, हत्या का आतंकी संगठन से कोई संबंध नहीं

up dgp op singh

1 / 2UP DGP OP Singh

 kamlesh tiwari murder case

2 / 2Kamlesh Tiwari murder case

PreviousNext

हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी हत्याकांड में उत्तर प्रदेश पुलिस ने तीन लोगों को गुजरात के सूरत से गिरफ्तार किया है। उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ओ़पी़ सिंह ने शनिवार को पत्रकारों को बताया कि कमलेश तिवारी हत्याकांड में सभी आरोपियों की पहचान हो गई है और 24 घंटे में हत्याकांड का पदार्फाश हो गया है। इस मामले में अब तक तीन लोगों को हिरासत में लिया गया है। उन्होंने बताया कि कमलेश तिवारी की हत्या का षड्यंत्र रचने के मामले में गुजरात से मौलाना शेख सलीम, फैजान और राशिद पठान को हिरासत में लिया गया है।

डीजीपी सिंह ने बताया कि घटनास्थल से जांच के दौरान मिले मिठाई के डिब्बे से अहम सुराग मिले और गुजरात पुलिस की मदद से तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। उन्होंने बताया कि कमलेश तिवारी के परिजनों द्वारा दर्ज कराई गई प्राथमिकी में बिजनौर निवासी अनवरूल हक और नईम काजमी के नाम हैं और उन्हें भी हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।

ISIS के निशाने पर थे कमलेश तिवारी, वीडियो दिखाकर दिए थे हत्या के आदेश

उन्होंने कहा कि कमलेश तिवारी की हत्या साल 2015 में दिए गए विवादित बयान के कारण की गई है। उनकी हत्या करने के बाद फरार दोनों आरोपियों के पीछे पुलिस लगी है। इनकी भी जल्द गिरफ्तारी होगी। इस हत्या के मामले में अभी तक किसी आतंकी संगठन की भूमिका सामने नहीं आई है। घटना के पीछे किसी आतंकी समूह का हाथ होने से भी उत्तर प्रदेश पुलिस ने इनकार किया है।

डीजीपी ने संवाददाता सम्मेलन में बताया, “हमें महत्वपूर्ण सुराग मिले थे और हम उसी पर बढ़ते हुए सफल रहे। हिरासत में लिए गए तीनों अपराधियों का गुजरात से कनेक्शन है।” उन्होंने बताया कि “हमें शुरू से आशंका थी कि हत्याकांड के तार गुजरात से जुड़े हैं। सूरत के मौलाना मोसिन सलीम शेख, फैजान जिलानी और रशीद को गिरफ्तार किया गया है। रशीद को कंप्यूटर का ज्ञान है और वह दर्जी का काम करता है। कुछ और लोगों को हिरासत में लिया गया था, लेकिन पूछताछ के बाद उन्हें छोड़ दिया।”

डीजीपी ने स्पष्ट कहा, “प्रारंभिक विवेचना से स्पष्ट है कि तीनों इस हत्याकांड में शामिल रहे हैं। इसके साथ ही मुख्य अभियुक्तों की गिरफ्तारी की तैयारी कर रहे हैं। एडीजी लखनऊ जोन से और टीम को सूरत भेज सकते हैं और जरूरत पड़ने पर उन्हें लखनऊ लाकर पूछताछ करेंगे।” उन्होंने कहा, “हमारी टीम गुजरात भी गई। हमने कमलेश तिवारी के घर पर मिले मिठाई के डिब्बे के आधार पर गुजरात पुलिस से संपर्क किया। लखनऊ पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज को काफी गहनता से खंगाला। इस केस को खोलने में लखनऊ और गुजरात पुलिस का समन्वय रहा।”

बता दें कि लखनऊ में शुक्रवार (18 अक्टूबर) की दोपहर हिन्दू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी  की उनके घर में ही गला रेत कर हत्या कर दी गई थी। हत्यारे भगवा कुर्ता पहने थे और मिठाई के डिब्बे में तमंचा व चाकू लेकर आये थे। मोबाइल पर बात करने के बाद परिचित बनकर घर पहुंचे दो हत्यारों ने पहले कमरे में कमलेश से करीब आधे घंटे तक बातचीत की। फिर उन पर चाकू से ताबड़तोड़ हमला कर दिया। हमले से चंद मिनट पहले पान मसाला लेने गया उसका बेटा जब लौटा तो कमलेश खून से लथपथ मिले। पड़ोसियों की मदद से कमलेश को अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Kamlesh Tiwari Murder Live Uttar Pradesh DGP OP Singh Press Conference