DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

CST में नियुक्ति संबंधी सहमति वापस लेने पर विवाद समाप्त होः जस्टिस सीकरी

जस्टिस एके सीकरी(एचटी फाइल फोटो)

सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश जस्टिस ए. के. सीकरी चाहते हैं कि सीएसएटी में नियुक्ति संबंधी सहमति वापस लेने पर हुए विवाद का समाप्त हो। 

जस्टिस सीकरी ने सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश जस्टिस वाई के सभरवाल के जीवन पर आधारित एक किताब से संबंधित निजी समारोह से इतर एक न्यूज एजेंसी से कहा, मैं नहीं चाहता कि यह विवाद और खिंचे। मैं चाहता हूं कि यह समाप्त हो। उन्होंने इस मामले में और कोई टिप्पणी नहीं की।

गौरतलब है कि लंदन स्थित राष्ट्रमंडल सचिवालय मध्यस्थता न्यायाधिकरण (सीएसएटी) में नियुक्ति के संबंध में पिछले साल सरकार की ओर से पेशकश किए जाने पर रविवार को विवाद शुरू हो गया था। इसके तीन दिन पहले ही प्रधानमंत्री की नेतृत्व वाली एक समिति ने वर्मा को सीबीआई प्रमुख से हटाने का फैसला किया था। उस समिति में जस्टिस सीकरी मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के प्रतिनिधि के तौर पर शामिल थे। जस्टिस सीकरी ने वर्मा को हटाने के पक्ष में मत दिया था। इस पर हुए विवाद से आहत होकर जस्टिस सीकरी ने सरकारी पेशकश पर अपनी सहमति वापस ले ली।

गलत तरीके से न्यायमूर्ति को निशाना बनाया जा रहा 

पूर्व एटार्नी जनरल मुकल रोहतगी ने सोमवार को कहा कि कुछ नेताओं और कार्यकर्ता-वकीलों द्वारा जस्टिस सीकरी को गलत तरीके से निशाना बनाया गया है। उन्होंने कहा कि दोनों विषयों का आपस में कोई संबंध नहीं है। लगाए गए आरोप पूरी तरह से गलत और दुर्भावनापूर्ण है। रोहतगी ने कुछ कार्यकर्ता-वकीलों की आलोचना की जिन्होंने सोशल मीडिया का उपयोग कथित रूप से न्यायाधीश की छवि खराब करने के लिए की। ऐसे लोग तथ्यों को जाने बिना सिर्फ प्रचार चाहते हैं। हाईकोर्ट के पूर्व न्यायाधीश अजीत कुमार सिन्हा और वरिष्ठ अधिवक्ता विकास सिंह ने भी उनके विचार को साझा किया। 

मेट्रो स्टेशन के पास सड़क कई फुट नीचे तक धंसी, गड्ढे में समा गई कार

सवर्ण आरक्षणःगरीबी की सीमा के लिए माथापच्ची,नियम बनाने में जुटा केंद्र

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Justice AK Sikri wants controversy over govt offer CBI case to over