ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशराज्यसभा में नेता सदन होंगे जेपी नड्डा, अध्यक्ष पद पर मिल सकता है और विस्तार; एक कार्यकारी की भी चर्चा

राज्यसभा में नेता सदन होंगे जेपी नड्डा, अध्यक्ष पद पर मिल सकता है और विस्तार; एक कार्यकारी की भी चर्चा

भाजपा के सीनियर नेता और मोदी कैबिनेट में स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा राज्यसभा में नेता सदन बन सकते हैं। अब तक राज्यसभा में पीयूष गोयल नेता सदन थे, जो अब मुंबई से जीतकर लोकसभा पहुंच चुके हैं।

राज्यसभा में नेता सदन होंगे जेपी नड्डा, अध्यक्ष पद पर मिल सकता है और विस्तार; एक कार्यकारी की भी चर्चा
jp nadda news
Surya Prakashलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीFri, 21 Jun 2024 04:50 PM
ऐप पर पढ़ें

भाजपा के सीनियर नेता और मोदी कैबिनेट में स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा राज्यसभा में नेता सदन बन सकते हैं। अब तक राज्यसभा में पीयूष गोयल नेता सदन थे, जो इस बार लोकसभा पहुंच चुके हैं। ऐसे में जेपी नड्डा को यह अहम भूमिका मिल सकती है। फिलहाल जेपी नड्डा भाजपा के अध्यक्ष हैं और उनका कार्यकाल 30 जून को समाप्त हो रहा है। फिलहाल उनके विकल्प के लिए तलाश तेज है और जल्दी ही किसी नए अध्यक्ष का फैसला हो सकता है। उनका कार्यकाल बीते साल दिसंबर में ही समाप्त हो गया था। लेकिन भाजपा ने उन्हें 6 महीने के लिए रुकने को कहा था।

यही नहीं एक चर्चा अब यह भी है कि जेपी नड्डा को कुछ और महीनों के लिए अध्यक्ष पद पर सेवा विस्तार मिल सकता है। इसकी वजह यह है कि अक्टूबर में ही महाराष्ट्र और हरियाणा के चुनाव होने हैं। फिर नए साल के आसपास झारखंड और दिल्ली में चुनाव होना है। इसके अलावा जम्मू-कश्मीर में भी अगले कुछ महीनों ही चुनाव हो सकता है। फिलहाल यह चर्चा भी चल रही है कि जेपी नड्डा के सहयोग के लिए किसी कार्यकारी अध्यक्ष को नियुक्त किया जा सकता है। जेपी नड्डा गुजरात से राज्यसभा के सांसद हैं। 

पीएम नरेंद्र मोदी ने हाल ही में उन्हें अपनी कैबिनेट में भी जगह दी है। इसके अलावा उन्हें केमिकल और उर्वरक मंत्रालय भी दिया गया है। जेपी नड्डा ने नरेंद्र मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में भी स्वास्थ्य मंत्रालय की जिम्मेदारी संभाली थी। मंत्री बनने के बाद से ही चर्चा है कि जेपी नड्डा को जल्दी ही अध्यक्ष पद से मुक्त किया जा सकता है। उन्होंने 2020 में अमित शाह के हाथों से अध्यक्ष पद की कमान ली थी। पार्टी का संविधान कहता है कि राष्ट्रीय अध्यक्ष की नियुक्ति तभी की जा सकती है, जब आधे राज्यों में संगठन के चुनाव हो गए हों। 

माना जा रहा है कि इस प्रक्रिया में भी कम से कम 6 महीने का समय लग सकता है। ऐसे में नए अध्यक्ष का चुनाव दिसंबर-जनवरी में हो सकता है। वकालत की डिग्री रखने वाले जेपी नड्डा संघ के विद्यार्थी संगठन एबीवीपी से निकले हैं। इके बाद वह भाजपा युवा मोर्चा से भी जुड़े रहे और फिर पार्टी में आगे बढ़ते रहे। उन्हें पहली बार 2012 में हिमाचल प्रदेश से राज्यसभा भेजा गया था। तब से ही वह उच्च सदन के मेंबर हैं। इसके अलावा 2014 में उन्हें भाजपा संसदीय बोर्ड का सदस्य बनाया गया था। इससे पहले वह हिमाचल में तीन बार विधायक रहे हैं।