DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पाकिस्तानी गोलाबारी में तबाह हुई जिंदगी, फिर भी कायम है इस गांव का लोकतंत्र पर भरोसा

people in queue for voting in bandipora jammu kashmir  ani photo april 11  2019

सीमा पार से जारी गोलीबारी में इन लोगों का घर बार सब तबाह हो चुका है, लेकिन संसदीय लोकतंत्र में इनका विश्वास कम नहीं हुआ है और इसी भरोसे के चलते सीमावर्ती इस गांव के लोगों ने अपने शांतिपूर्ण और बेहतर भविष्य के लिए मतदान में हिस्सा लिया। पाकिस्तान के साथ लगती अंतरराष्ट्रीय सीमा पर भारतीय हिस्से में सीमा पर बसे आखिरी गांव में 400 मतदाता हैं। राजनीतिक पार्टियों को लेकर इनकी पसंद अलग अलग भले ही हो, लेकिन सभी की एक साझा पसंद भी है जिसके लिए ये वोट डालने गए और वह है - स्थायी शांति तथा विकास।

सीमा पर लगी बाड़ से मात्र 400 मीटर की दूरी पर स्थित यह गांव जम्मू संसदीय क्षेत्र का हिस्सा है और यहां लोकसभा चुनाव के पहले चरण में गुरुवार को मतदान हुआ। गांव के लोगों के लिए आज का दिन खास था क्योंकि एक बार फिर से उनके दिलों में शांति की उम्मीदें नए सिरे पंख फैलाने लगीं। सुबह सवेरे ही अधिकतर गांव वाले घोड़ागाड़ियों में बैठकर मतदान केंद्र के लिए निकल पड़े जो समीप के जाजवाल गांव में बनाया गया था।

पुलवामा हमले के लिए NDA जिम्मेदार, भारत का संविधान खतरे में: ममता

35 साल के मोहम्मद शफी ने पीटीआई भाषा को बताया, ''हमने शांति और विकास के लिए वोट डाला ..... शांति बहुत जरूरी है, क्योंकि पाकिस्तान जब भी अग्रिम चौकियों और गांवों को निशाना बनाता है तो उसका खामियाजा सबसे पहले हमें भुगतना पड़ता है।" उन्होंने कहा,'' हमारे गांव की हालत देखिए ...यहां पेयजल आपूर्ति और ढंग की सड़क जैसी मूलभूत सुविधाएं तक नहीं हैं, जबकि पाकिस्तानी गोलीबारी में हम सबसे अधिक नुकसान उठा रहे हैं।"

जम्मू से करीब 35 किलोमीटर दूर जोराफार्म गांव में सौ से अधिक परिवार कच्चे घर जनवरी और मई में पाकिस्तान की गोलीबारी में जलकर राख हो गए थे। इस गांव को ''गुज्जर" दुधियों के गांवके नाम से भी जाना जाता है। पुलवामा हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच बढ़े तनाव के बाद भी पिछले कुछ महीनों से गांव में शांति है और पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी भी नहीं हुई है।

20 राज्यों की 91 सीटों पर 1279 उम्मीदवारों की किस्मत EVM में कैद

जाजवाल मतदान केंद्र के निर्वाचन अधिकारी अनुरोध कुमार भट ने बताया कि दोपहर तक 742 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया जिनमें से 303 पुरुष और 123 महिला मतदाता थीं। इस सीट पर भाजपा सांसद जुगल किशोर फिर से किस्मत आजमा रहे हैं। यहां कुल 24 उम्मीदवार मैदान में हैं, इनमें कांग्रेस के रमन भल्ला और डोगरा स्वाभिमान संगठन के चौधरी लाल सिंह तथा नेशनल पैंथर्स पार्टी के भीम सिंह प्रमुख हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Jorafarm Last Village on Indo Pak border date with democracy vote for peace Lok Sabha Elections