अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

JNUSU Elections 2018 : ट्रांसजेंडर और दृष्टिबाधित प्रत्याशी भी मैदान में

JNUSU Elections 2018 (Symbolic Image)

जेएनयू कैंपस अपनी विविधता के लिए पूरे देश में जाना जाता है। इसी तरह यहां का छात्रसंघ चुनाव भी अपने आप में खास है। इस बार के चुनाव में तमाम संगठनों के बीच दृष्टिबाधित छात्रा निधि मिश्रा अपने प्रचार में जुटी हैं। वहीं बाप्सा से काउंसलर पद पर समलैंगिक उम्मीदवार स्नेहाशीष भी चुनाव मैदान में उतरे हैं। 

पांच साल बाद चुनाव में समलैंगिक उम्मीदवार 

वर्ष 2013 के बाद जेएनयू में छात्र संघ चुनाव में बिरसा आंबेडकर फूले स्टूडेंट्स एसोसिएशन (बापसा) की तरफ से स्कूल ऑफ सोशल साइंस में कांउसलर पद पर एमए के छात्र स्नेहाशीष प्रत्याशी हैं। इससे पहले 2013 में छात्र संघ चुनाव में लेफ्ट संगठन स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (एसएफआई) से केंद्रीय पैनल पर महासचिव पद के लिए गौरव घोष प्रत्याशी थे। उड़ीसा के एक गांव से आए स्नेहाशीष जेएनयू को अपने भीतर उतार चुके हैं। वह बताते हैं कि कि पहले हॉस्टल को लेकर परेशानी हुई थी। मुझे ब्वॉज हॉस्टल में रहना पड़ता है जिसकी वजह से दूसरे छात्र मेरे साथ सहज नहीं रह पाते। जेएनयू में क्वियर समुदाय के लिए शौचालय भी नहीं है। मेरे चुनाव लड़ने के पीछे भी यही वजह है कि हमारा समुदाय पॉवर में आए। वह कहते हैं कि मैं जिस इलाके से आता हूं वहां यह सामान्य नहीं है। मेरे अभिभावकों को अपने आत्मसम्मान के लिए लड़ना पड़ा। अब जब छोटे-भाई बहन पढ़ने लगें है, वो परिवार के सदस्यों को समझाते है और मेरे साथ खड़े रहते है। 

DUSU चुनाव में उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला आज

हौसले से लबरेज हैं अध्यक्ष पद प्रत्याशी निधि

उत्तर प्रदेश के एक गांव की रहने वाली 27 वर्षीय  निधि के हौसले बड़े-बड़ों को मात देने वाले हैं। निधि बचपन से पूरी तरह दृष्टिबाधित हैं। उन्हें बिल्कुल भी नहीं दिखता। एशियन गेम के लिए तैयारी कर रही निधि एथलीट भी हैं। वह अपने हौसले से नई इबारत लिखने को तैयार हैं। पांच साल से यहां पढ़ रही निधि गोदावरी हॉस्टल की अध्यक्ष रही हैं। सवर्ण छात्र मोर्चा से लड़ रही विज्ञान शोध छात्रा निधि बताती हैं कि मेरा मुद्दा गरीब सवर्णों के हक की बात रखना है। आजकल राजनीतिक एजेंडा सवर्ण बनाम दूसरी जातियां हो चुकी हैं। एसएसएस(स्कूल ऑफ सोशल साइंसेज) की छात्रा निधि प्रचार के बारे में बताती हैं कि पहली बार कोई पूरी तरह दृष्टिबाधित चुनाव लड़ रहा है। मैं सोशल मीडिया से अपना प्रचार ज्यादा कर रही हूं। वह कहती कहती हैं कि मैं कभी भी अपनी राह में किसी भी कमी को रोड़ा नहीं मानती।

युवाओं को अकेलेपन का शिकार बना रहा सोशल मीडिया, डराने वाले हैं हालात

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:JNUSU Elections 2018 Transgender and visually impaired candidates also contesting the elections