DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   देश  ›  JNU Violence: जेएनयू प्रशासन ने मंत्रालय को सौंपी रिपोर्ट, कहा- हमले में बाहरी व्यक्ति नहीं

देशJNU Violence: जेएनयू प्रशासन ने मंत्रालय को सौंपी रिपोर्ट, कहा- हमले में बाहरी व्यक्ति नहीं

स्कन्द विवेक धर, हिन्दुस्तान,नई दिल्लीPublished By: Himanshu
Tue, 07 Jan 2020 06:45 AM
JNU Violence: जेएनयू प्रशासन ने मंत्रालय को सौंपी रिपोर्ट, कहा- हमले में बाहरी व्यक्ति नहीं

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में रविवार को छात्रों पर हमला किसी बाहरी व्यक्ति का काम नहीं था। यह जेएनयू के छात्रों के दो गुटों की आपस की लड़ाई थी। दोनों ही गुटों ने चेहरे पर नकाब पहनकर एक-दूसरे पर हमला किया था। जेएनयू प्रशासन ने सोमवार को एचआरडी मंत्रालय के आला अधिकारियों से मुलाकात के दौरान मौखिक रूप से ये जानकारी दी। जेएनयू प्रशासन ने घटनाक्रम की एक रिपोर्ट भी मंत्रालय को सौंपी। 

जेएनयू के प्रो-वीसी प्रो. चिंतामनी महापात्रा और रजिस्ट्रार डॉ. प्रमोद कुमार समेत चार सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल सोमवार को मानव संसाधन विकास मंत्रालय पहुंचा और उच्च शिक्षा सचिव अमित खरे को घटनाक्रम को लेकर रिपोर्ट सौंपी। रिपोर्ट में बीते कुछ समय से विश्वविद्यालय में चल रहे घटनाक्रमों की जानकारी दी गई।

इसमें बीते दिनों विश्वविद्यालय के सर्वर रूम में की गई तोड़फोड़ का भी जिक्र है। रिपोर्ट में कहा गया है कि हमले की शुरुआत पेरियार छात्रावास से हुई। सूत्रों के मुताबिक, जेएनयू प्रशासन ने मौखिक रूप से बताया कि पहले पेरियार छात्रावास पर नकाबपोश छात्रों ने हमला किया। इसके जवाब में पेरियार छात्रावास के छात्रों ने साबरमति छात्रावास पर नकाब पहनकर हमला कर दिया। ये मालूम हो पेरियार छात्रावास में दक्षिण पंथी छात्रों की संख्या अधिक है। वहीं, साबरमति छात्रावास में वामपंथ विचारधारा से जुड़े छात्रों की संख्या अधिक है। एचआरडी मंत्रालय के एक आला अधिकारी ने बताया कि मंत्रालय फिलहाल इस मामले में दखल नहीं देगा।

12 तक रजिस्ट्रेशन
जेएनयू प्रशासन ने विंटर सेमेस्टर की परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन की अंतिम तारीख 12 जनवरी तक बढ़ा दी है। जेएनयू प्रशासन ने बताया कि छात्रों से रजिस्ट्रेशन के लिए कोई लेट फीस नहीं ली जाएगी।

शाह बोले- एलजी जेएनयू प्रतिनिधियों से करें बात
गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल से सोमवार को फोन पर बात की और उनसे कहा कि जेएनयू के प्रतिनिधियों को बातचीत के लिए बुलाएं।

मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने बताया कि विश्वविद्यालयों को राजनीति का अड्डा नहीं बनने देंगे। विपक्षी दल  विश्वविद्यालयों को राजनीति का अड्डा बनाने का प्रयास कर रहे हैं। विवि ज्ञान अर्जन का केंद्र हैं। उन्हें राजनीति का अड्डा नहीं बनने दे सकते।
 

संबंधित खबरें