झारखंड: रांची से मोस्ट वांडेट संदिग्ध आतंकी कलीमुद्दीन गिरफ्तार, तीन साल से फरार था - Jharkhand ranchi se Alkayada ka purv atanki giraftar DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झारखंड: रांची से मोस्ट वांडेट संदिग्ध आतंकी कलीमुद्दीन गिरफ्तार, तीन साल से फरार था

terrorist

आतंकी संगठन अलकायदा का कुख्यात संदिग्ध आतंकवादी मौलाना मोहम्मद कलीमुद्दीन मुजाहिदीन को झारखंड एटीएस की टीम ने जमशेदपुर के आजादनगर से गिरफ्तार किया है। संदिग्ध आतंकी कलीमुद्दीन जमशेदपुर में न्यायालय से जमानत लेने और परिवार से मिलने के लिए आया था। खबर मिलने के बाद एटीएस की टीम ने जमशेदपुर स्टेशन रोड में छापेमारी की और उसे दबोच लिया। कलीमुद्दीन तीन साल से फरार चल रहा था। वह झारखंड के बाहर दूसरे राज्य में पनाह लिया हुआ था।

एटीएस के एसपी के विजयालक्ष्मी ने पत्रकारों को बताया कि मो कलीमुद्दीन दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद मो अब्दुल रहमान अली खान उर्फ हैदर उर्फ मसूद उर्फ कटकी का सहयोगी है। वही अब्दुल समी उर्फ उजैर उर्फ हसन, जिशान हैदर तिहाड़ में और अहमद मसूद अकरम उर्फ मसूद उर्फ मोनू, राजू उर्फ नसीम अख्तर जमशेदपुर के जेल में बंद है। इन आतंकियों ने मो कलीमुद्दीन को अपना सहयोगी बताया था। इसी आधार पर कलीमुद्दीन के खिलाफ जमशेदपुर में 25 जनवरी 2016 को प्राथमिकी दर्ज की गई थी। उस समय से संदिग्ध आतंकी कलीमुद्दीन फरार चल रहा था। कलीमुद्दीन बिहार, झारखंड, बंगाल समेत पूर्वी क्षेत्र में युवाओं को जेहाद के लिए तैयार कर रहा था।   एटीएस उसे किसी अज्ञात स्थान पर ले जाकर पूछताछ कर रही है।

एटीएस के एडीजी अभियान मुरारी लाल मीणा ने बताया कि वह लंबे वक्त से आतंकी संगठन अलकायदा से जुड़ा हुआ था।  देश भर की सुरक्षा एजेंसियां साल 2016 से ही अलकायदा के इस कुख्‍यात संदिग्ध आतंकी की तलाश में थी।   पकड़ा गया संदिग्ध आतंकी  झारखंड में स्लीपर सेल तैयार कर रहा था।  यही नहीं वह जिहाद के लिए लोगों का ब्रेन वॉश करता था और उन्हें तैयार करता था। मीणा ने बताया कि वह संदिग्ध आतंकवादी गतिविधियों में संलिप्त होने की वजह से वांछित था और तीन साल से फरार था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Jharkhand ranchi se Alkayada ka purv atanki giraftar