Jharkhand Mob Lynching Case 2 Police officer suspended and 5 arrested in Jharkhand Mob Killing - झारखंड मॉब लिंचिंग: अब तक 5 गिरफ्तार, दो पुलिस अधिकारी सस्पेंड, गृह मंत्रालय को भेजी रिपोर्ट DA Image
22 नवंबर, 2019|5:51|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झारखंड मॉब लिंचिंग: अब तक 5 गिरफ्तार, दो पुलिस अधिकारी सस्पेंड, गृह मंत्रालय को भेजी रिपोर्ट

jharkhand mob lynching

झारखंड के सरायकेला-खरसावां जिला जेल में तबरेज अंसारी की मौत मामले में पुलिस कप्तान कार्तिक एस ने कार्रवाई करते हुए दो पुलिस पदाधिकारियों- खरसावां थाना प्रभारी चंद्रमोहन उरांव व सीनी ओपी प्रभारी विपिन बिहारी सिंह को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया है। दोनों पर लापरवाही बरतने व अपने वरीय पदाधिकारी की सूचना नहीं देने का आरोप है। वहीं, अब तक इस मामले में पुलिस ने पांच लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। इसके अलावा, राज्य सरकार ने इस मामले की रिपोर्ट गृह मंत्रालय को भेज दी है।

एसआईटी करेगी जांच: 
मामले पर पुलिस प्रशास ने संज्ञान लेते हुए एसडीपीओ अविनाश कुमार के नेतृत्व में एसआईटी का गठन कर दिया है। एसआईटी में आरआईटी के थाना प्रभारी सह इंस्पेक्टर, आदित्यपुर के थाना प्रभारी सह इंस्पेक्टर, सरायकेला थाना प्रभारी व नये खरसावां थाना प्रभारी को रखा गया है। एसपी के निर्देश पर एसआईटी ने जांच शुरू कर दी है।

17-18 जून की रात हुई थी पिटाई: 
सरायकेला थाना क्षेत्र के धतकीडीह में 17-18 जून की रात लगभग डेढ़ बजे चोरी की नीयत से बाइक पर पहुंचे तीन युवकों को ग्रामीणों ने देखा। इसके बाद हो हंगामा होने पर दो भाग निकले जबकि खरसावां थाना क्षेत्र के कदमडीहा के तबरेज अंसारी को ग्रामीणों ने पकड़ कर बिजली पोल से बांध पिटाई की, जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। वीडियो में तबरेज से जदबरन जय श्रीराम कहलवाने की कोशिश की गयी है।

सुबह पहुंची सीनी पुलिस: 
ग्रामीणों की सूचना पर पहुंची सीनी ओपी पुलिस ने सुबह सात बजे ग्रामीणों की पिटाई से घायल तबरेज अंसारी को हिरासत में लिया। पुलिस ने इलाज कराने के बाद उसे जेल भेज दिया। 

22 जून को जेल में बिगड़ी तबीयत: 
22 जून की सुबह तबरेज अंसारी की तबीयत जेल में एकाएक बिगड़ गयी। इसके बाद जेल प्रशासन ने उसे इलाज के लिए सदर अस्पताल भेजा, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। लेकिन, परिजनों ने तबरेज के जिंदा होने की बात कह अस्पताल में हंगामा शुरू कर दिया। हंगामा बढ़ते देख चिकित्सकों ने उसके परिजनों की डिमांड पर टाटा मुख्य अस्पताल रेफर कर दिया, लेकिन वहां भी जांच कर तबरेज को मृत घोषित कर दिया गया।

पत्नी की शिकायत पर दर्ज हुई एफआईआर: 
तबरेज का शव को लेकर पोस्टमार्टम हाउस पहुंचने के बाद परिजनों ने सीनी ओपी प्रभारी, जेल डॉक्टर, सदर अस्पताल में तबरेज को फिट लिखने वाले डॉक्टर व धातकीडीह के ग्रामीणों पर एएफआईआर करने की मांग करते हुए पोस्टमार्टम का विरोध कर दिया। इसके बाद मृतक की पत्नी के बयान पर धातकीडीह के पप्पू मंडल व अन्य 100 ग्रामीणों के खिलाफ हत्या का प्राथमिकी दर्ज की गयी।

अब तक पांच भेजे गये जेल: 
धातकीडीह गांव में तबरेज अंसारी की बिजली पोल से बांधकर पिटाई मामले में पुलिस ने सोमवार को चार अन्य आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। जबकि नामजद अभियुक्त प्रकाश मंडल उर्फ पप्पू मंडल को शनिवार को ही गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है। एसपी ने बताया कि भीमसेन मंडल पिता डोमू मंडल, प्रेमचंद महाली पिता धनु महाली, कमल महतो पिता स्व. विशु महतो व सोनामो प्रधान पिता अनिल प्रधान को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है। पुलिस अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए गांव में छापेमारी कर रही है।  

मारपीट के वायरल वीडियो की हो रही है जांच:  
एसपी ने बताया कि तबरेज अंसारी की पिटाई करते जो वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हुआ है, उसकी जांच की जा रही है। जांच पूरी होने पर सारी सच्चाई सामने आ जायेगी। अब तक पोस्टमार्टम रिपोर्ट नहीं आयी है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही तबरेज की मौत के कारणों का पता चल पायेगा।  

दोषी बख्शे नहीं जायेंगे: एसपी 
तबरेज की मौत मामले में हर बिंदु पर गहनता से जांच हो रही है। दो पुलिस पदाधिकारियों को सस्पेंड किया जा चुका है और पांच आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी है। जो भी दोषी होंगे उन पर कड़ी कार्रवाई होगी। 

गिरफ्तारी के डर से धतकडीह गांव के पुरुष भागे:
पुलिसिया कार्रवाई के डर से आरोपियों के गांव धातकीडीह में सन्नाटा पसर गया है। गिरफ्तारी के डर से गांव के सभी पुरुष गांव छोड़कर भाग गये हैं, जबकि गांव में केवल महिलाएं ही बच गयी हैं। 

धातकीडीह गांव में सुरक्षा बल तैनात: 
इधर, ग्रामीणों के अनुसार धातकीडीह गांव में पुरुष सदस्य नहीं हैं और महिलाएं डर-डरकर रह रही हैं। ग्रामीणों द्वारा पुलिस को इसकी जानकारी दिये जाने के बाद गांव में सुरक्षा बल तैनात कर दिया गया है।

राज्यसभा में गूंजा तबेरज की मौत का मामला : 
इधर, धातकीडीह गांव में पिटाई के बाद जेल में तबरेज अंसारी की हुई मौत का मामला सोमवार को राज्यसभा में उठा। विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने संसद में कहा कि मॉब लींचिंग में मारे गये तबरेज अंसारी का मामला गंभीर है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि झारखंड हिंसा और लींचिंग की फैक्ट्री बन गया है। 

घटना दुर्भाग्यपूर्ण : सरयू राय
तबरेज की मौत मामले में झारखंड सरकार के खाद्य आपूर्ति मंत्री सरयू राय ने कहा कि घटना दुर्भाग्यपूर्ण है। इससे राज्य की छवि देश-दुनिया में खराब होती है। इस तरह की घटना लंबे समय तक होते रहने पर आम जनता का व्यवस्था से भरोसा उठने लगता है। उन्होंने सरायकेला एसपी से बात की तो उन्होंने आश्वस्त किया कि कार्रवाई की जा रही है। जल्द सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जायेगा। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Jharkhand Mob Lynching Case 2 Police officer suspended and 5 arrested in Jharkhand Mob Killing