DA Image
Friday, November 26, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशजेवर एयरपोर्ट: 30 जिलों और 4 एक्सप्रेसवे से कनेक्टिविटी, 2024 में होगी पहली उड़ान; जानें क्या होंगी खासियतें

जेवर एयरपोर्ट: 30 जिलों और 4 एक्सप्रेसवे से कनेक्टिविटी, 2024 में होगी पहली उड़ान; जानें क्या होंगी खासियतें

लाइव हिन्दुस्तान ,जेवरSurya Prakash
Thu, 25 Nov 2021 01:03 PM
जेवर एयरपोर्ट: 30 जिलों और 4 एक्सप्रेसवे से कनेक्टिविटी, 2024 में होगी पहली उड़ान; जानें क्या होंगी खासियतें

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से ठीक पहले राज्य और केंद्र सरकार की ओर से लगातार कई परियोजनाओं के उद्घाटन और शिलान्यास हो रहे हैं। इसी कड़ी में पीएम नरेंद्र मोदी जेवर के नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट का उद्घाटन करने के लिए पहुंच रहे हैं। पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के बाद यह दूसरा बड़ा प्रोजेक्ट है, जिसके लिए पीएम नरेंद्र मोदी पहुंच रहे हैं। इस एयरपोर्ट के जरिए जहां भाजपा को चुनावी उड़ान मिलने की उम्मीद है तो वहीं पश्चिम यूपी, हरियाणा के कुछ जिलों और एनसीआर के लिए यह हवाई अड्डा बेहद अहम रहने वाला है। इससे एक तरफ दिल्ली के आईजीआई एयरपोर्ट पर दबाव कम होगा तो वहीं एनसीआर के बड़े हिस्से के लोगों को अपने नजदीक से ही फ्लाइट मिल सकेगी। आइए जानते हैं, इस हवाई अड्डे की खास बातें...

पश्चिम यूपी और ब्रज के 30 जिले जुड़ेंगे

जेवर का नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट आगरा, मेरठ, मथुरा, गाजियाबाद, नोएडा, अलीगढ़, बुलंदशहर, हाथरस समेत पश्चिम यूपी और ब्रज क्षेत्र के करीब 30 जिलों को जोड़ेगा। इस एयरपोर्ट पर नोएडा, गाजियाबाद, मेरठ, आगरा समेत कई जिलों से पहुंचना बेहद आसान होगा। इसके अलावा हरियाणा के भी नजदीकी शहरों के लोगों को इस एयरपोर्ट से सुविधा मिलेगी। इससे क्षेत्र के विकास पर कितना असर पड़ेगा, इसे इससे ही समझा जा सकता है कि आसपास के गांवों में प्रॉपर्टी के रेट तेजी से बढ़े हैं। इसके अलावा इन्फ्रास्ट्रक्चर का विकास भी तेजी से हुआ है।

4 एक्सप्रेसवे से होगी सीधी कनेक्टिविटी

यह इंटरनेशनल एयरपोर्ट यूपी के बड़े हिस्से के लिए फायदेमंद साबित होगा। कनेक्टिंग फ्लाइट्स से बचने के लिए लोग बड़ी संख्या में इसका इस्तेमाल करेंगे। इसकी वजह यह भी है कि एयरपोर्ट की 4 एक्सप्रेसवे से सीधे कनेक्टिविटी होगी, जिससे लोगों के लिए यहां पहुंचना आसान होगा। यमुना एक्सप्रेसवे, आगरा लखनऊ एक्सप्रेसवे, पूर्वांचल एक्सप्रेसवे और बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे इससे सीधे तौर पर जुड़ेंगे। इस एयरपोर्ट से 2024 में पहली उड़ान भरी जाएगी। पहले चरण का काम तब तक पूरा जाएगा। यह हवाई अड्डा दिल्ली के इंदिरा गांधी एयरपोर्ट से 72 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

30 हजार की लागत से बन रहा, टर्मिनल और 5 रनवे

उत्तर प्रदेश का यह 5वां इंटरनेशनल एयरपोर्ट होगा, जो 6200 हेक्टेयर में बन रहा है। इस पर कुल 30 हजार करोड़ रुपये की लागत आने वाली है। हाल ही में पीएम नरेंद्र मोदी ने कुशीनगर में इंटरनेशनल एयरपोर्ट का उद्घाटन किया था। यह राज्य का तीसरा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा है। इसके अलावा अयोध्या में काम चल रहा है और जेवर इस कड़ी में 5वां अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा है। यह दुनिया का चौथा सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा और एशिया का सबसे बड़ा होगा। इस हवाई अड्डे में दो टर्मिनल और 5 रनवे होंगे। हाल ही में सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि इस हवाई अड्डे के निर्माण से एक लाख के करीब लोगों को रोजगार मिलने की संभावना है।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें