Jammu and Kashmir Governor Satya Pal Malik tells to rahul gandhi over Vally situation after Article 370 - राहुल गांधी से राज्यपाल मलिक ने क्यों कहा: प्लेन भेज दूंगा, यहां आइए और तब बोलिए DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राहुल गांधी से राज्यपाल मलिक ने क्यों कहा: प्लेन भेज दूंगा, यहां आइए और तब बोलिए

 jammu and kashmir governor satya pal malik

जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी के कश्मीर में हिंसा की खबर होने संबंधी टिप्पणी के बारे में कहा है कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष को घाटी का दौरा कराने और जमीनी स्थिति का जायजा लेने के लिए वह विमान भेजेंगे। राज्यपाल ने कहा कि राहुल गांधी को अपनी पार्टी के एक नेता के व्यवहार के बारे में शर्मिंदगी महसूस करनी चाहिए जो संसद में ''मूर्ख' की तरह बात कर रहे थे।

यह भी पढ़ें- कराची में 'मीका सिंह नाइट' में मौजूद थे ISI अफसर और दाउद का परिवार

राज्यपाल मलिक ने कहा, ''मैंने राहुल गांधी को यहां आने के लिए न्यौता दिया है । मैं आपके लिए विमान भेजूंगा ताकि आप स्थिति का जायजा लीजिए और तब बोलिए । आप एक जिम्मेदार व्यक्ति हैं और आपको ऐसे बात नहीं करनी चाहिए। राज्यपाल कश्मीर में हिंसा संबंधी कुछ नेताओं के बयान के बारे में पूछे गए सवालों का जवाब दे रहे थे। शनिवार की रात राहुल गांधी ने कहा था कि जम्मू कश्मीर से हिंसा की कुछ खबरें आयी हैं और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पारदर्शी तरीके से इस मामले पर चिंता व्यक्त करनी चाहिए ।

यह भी पढ़ें- 'चिदंबरम की कश्मीर संबंधी टिप्पणी मुस्लिमों को भड़काने के लिए थी'

राज्यपाल ने कहा कि जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को हटाने में कोई सांप्रदायिक दृष्टिकोण नहीं है। उन्होंने कहा, ''अनुच्छेद 35 ए और अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान सबके लिए समाप्त किए गए हैं । न तो लेह, करगिल, जम्मू, रजौरी और पुंछ में और न ही यहां (कश्मीर) इसे समाप्त करने में कोई सांप्रदायिक दृष्टिकोण है । इसका कोई सांप्रदायिक कोण नहीं है। मलिक ने कहा कि इस मुद्दे को मुठ्ठी भर लोग हवा दे रहे हैं लेकिन वह इसमें सफल नहीं होंगे।

उन्होंने कहा, ''विदेशी मीडिया ने कुछ (गलत रिपोर्टिंग करने का) प्रयास किया और हमने उन्हें चेतावनी दी है । सभी अस्पताल आपके लिए खुले हैं और किसी एक व्यक्ति को भी गोली लगी हो तो आप साबित कर दीजिए । जब कुछ युवक हिंसा कर रहे थे तो केवल चार लोगों को पैलेट से पैर में गोली मारी गयी है और इसमें कोई भी गंभीर रूप से घायल नहीं हुआ है। कश्मीर को 'यातना शिविर में बदल देने के आरोपों के बारे में पूछे जाने पर एक सवाल के जवाब में राज्यपाल ने कहा कि शिक्षित होने के बावजूद लोग यातना शिविर का अर्थ नहीं जानते हैं।

यह भी पढ़ें- घाटी में सुकून से मनाई गई बकरीद, नहीं चली एक भी गोली: मुख्य सचिव

उन्होंने पूछा, ''मुझे पता है कि यह क्या है। मैं 30 बार जेल गया हूं । तब भी मैंने इसे यातना शिविर कारार नहीं दिया था । उन्होंने (कांग्रेस) आपातकाल के दौरान डेढ़ साल तक लोगों को जेल में बंद कर दिया था लेकिन किसी ने उसे यातना शिविर नहीं कहा था । क्या एहतियातन गिरफ्तारी यातना शिवर (के बराबर) है? (इनपुट भाषा से)
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Jammu and Kashmir Governor Satya Pal Malik tells to rahul gandhi over Vally situation after Article 370