DA Image
हिंदी न्यूज़ › देश › जम्मू-कश्मीर में आतंकी खतरा: सरकार ने अमरनाथ यात्रियों, पर्यटकों से घाटी छोड़ने को कहा
देश

जम्मू-कश्मीर में आतंकी खतरा: सरकार ने अमरनाथ यात्रियों, पर्यटकों से घाटी छोड़ने को कहा

एजेंसी ,नई दिल्लीPublished By: Govind
Fri, 02 Aug 2019 08:16 PM
The Jammu and Kashmir government on Friday asked Amarnath Yatris and tourists in Kashmir to “immediately” curtail their stay and leave the valley.(ANI Photo )
1 / 2The Jammu and Kashmir government on Friday asked Amarnath Yatris and tourists in Kashmir to “immediately” curtail their stay and leave the valley.(ANI Photo )
jammu and kashmir government asked amarnath pilgrims and tourists to leave valley immediately
2 / 2jammu and kashmir government asked amarnath pilgrims and tourists to leave valley immediately

अमरनाथ यात्रा को लेकर इंटेलीजेंस इनपुट के हवाले से आतंकवादी खतरे की बात कहते हुए जम्मू एवं कश्मीर सरकार ने शुक्रवार को एक एडवाइजरी जारी की। इसमें तीर्थयात्रियों को घाटी से जल्द से जल्द लौटने की सलाह दी गई है। जम्मू एवं कश्मीर के गृह विभाग ने यह एडवाइजरी जारी की है। यात्रा को लेकर शीर्ष सुरक्षा प्रतिष्ठान ने कहा कि इस तरह के इनपुट है कि यात्रा को पाकिस्तान समर्थित आतंकवादियों द्वारा निशाना बनाया जा सकता है।

एडवाइजरी में कहा गया, “आतंकवादी धमकी के नवीनतम इंटेलीजेंस इनपुट खास तौर से अमरनाथ यात्रा को निशाना बनाए जाने व कश्मीर घाटी के सुरक्षा हालात को ध्यान में रखते हुए अमरनाथ यात्रियों व पर्यटकों की सुरक्षा के हित में यह सुझाव दिया जाता है कि तीर्थयात्री घाटी से जल्द से जल्द लौटें।”

अमरनाथ यात्रा एक जुलाई से शुरू हुई और यह 15 अगस्त को समाप्त होनी है। इंटेलीजेंस इनपुट के मद्देनजर कश्मीर में पहले हजारों की संख्या में अर्धसैनिक बल पहुंच चुके हैं। इंटेलीजेंस इनपुट में यात्रा को आतंकवादियों द्वारा निशाना बनाने की बात कही गई है। इससे पहले दिन में सेना ने कहा कि इस तरह के इंटेलीजेंस इनपुट है कि पाकिस्तान समर्थित आतंकवादी यात्रियों को निशाना बनाने की योजना बना रहे हैं।

 

वहीं जम्मू कश्मीर के डीजी दिलबाग सिंह से घाटी में अतिरिक्त सुरक्षा बलों की तैनाती के सवाल पर कहा कि हमें इनपुट मिले हैं कि आतंकी हिंसक गतिविधियां बढ़ा सकते हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए हमने सुरक्षा व्यवस्था को बढ़ाया गया है। उन्होंने आगे कहा कि पिछले कुछ महीनों से घाटी में बहुत सी घटनाएं घटित हुई जिस कारण यहां मौजूद जवानों को आराम करने का मौका भी नहीं मिल पाया था। 
 

 

संबंधित खबरें