DA Image
Thursday, December 2, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशहैदरपोरा एनकाउंटर का विरोध करने वाली महबूबा ने अब श्रीनगर मुठभेड़ पर भी जताया शक, बोलीं- सिर्फ एक तरह से हुई फायरिंग

हैदरपोरा एनकाउंटर का विरोध करने वाली महबूबा ने अब श्रीनगर मुठभेड़ पर भी जताया शक, बोलीं- सिर्फ एक तरह से हुई फायरिंग

लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीNishant Nandan
Thu, 25 Nov 2021 05:36 PM
हैदरपोरा एनकाउंटर का विरोध करने वाली महबूबा ने अब श्रीनगर मुठभेड़ पर भी जताया शक, बोलीं- सिर्फ एक तरह से हुई फायरिंग

जम्मू और कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने बुधवार को श्रीनगर के रामबाग इलाके में हुए एनकाउंटर पर शक जताया है। पीडीपी चीफ ने कहा है कि वैध संदेह पैदा हो रहा है। इस मुठभेड़ के बाद पुलिस की तरफ से बताया गया था कि एनकाउंटर में तीन आतंकवादी ढेर हुए हैं। पुलिस-प्रशासन के इन दावों से उलट महबूबा मुफ्ती ने एक ट्वीट कर कहा, 'रामबाग में कल हुए एनकाउंटर के बाद से इसकी वैधता को लेकर संदेह है।' कुछ मीडिया रिपोर्ट में कहा जा रहा है कि इस एनकाउंटर को लेकर उन्होंने प्रत्य़क्षदर्शियों का हवाला देते हुए कहा कि ऐसा लग रहा था कि एक ही तरफ से फायरिंग हो रही थी। 

महबूबा मुफ्ती ने कहा, 'एक बार फिर अधिकारियों द्वारा कही गई बातें उसी तरह जमीनी हकीकत से मेल नहीं खाती जिस तरह से शोपियां, एचएमटी और हैदरपोरा में हुआ।' इससे पहले जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में बुधवार को सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में 'द रेजस्टिेंस फ्रंट' का एक शीर्ष कमांडर समेत तीन आतंकवादी मारे गए। पुलिस ने बताया कि रामबाग इलाके में आज शाम एक संक्षप्ति मुठभेड़ में तीन आतंकवादी मारे गये।  पुलिस के एक ट्वीट में कहा, 'पुलिस ने श्रीनगर में तीन आतंकवादियों को मार गिराया। मारे गये आतंकवादियों की पहचान और वे किस संगठन से ताल्लुक रखते थे, इसका पता लगाया जा रहा है।'

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मारे गये आतंकवादियों में से एक की पहचान टीआरएफ कमांडर मेहरान यासीन शला के रूप में हुई है, जो श्रीनगर में नागरिकों की हत्याओं में शामिल था। इसका मारा जाना श्रीनगर में आतंकवादियों के लिए बड़ा झटका है। इस घटना के बाद  श्रीनगर के विभन्नि इलाकों से बंद और विरोध की रिपोर्टें भी आ रही हैं। 

इससे पहले हैदरपुरा में हुए एक मुठभेड़ में दो आतंकवादी और उनके दो सहयोगियों को मार गिराने का सुरक्षा बलों ने दावा किया था। कुछ दिनों पहले सुरक्षा बलों और दो संदिग्ध आतंकवादियों के बीच आमने-सामने के मुठभेड़ में शॉपिंग कॉम्प्लेक्स के मालिक अल्ताफ अहमद और उसी मकान में किराए पर रह रहे मुदासिर गुल भी मारे गए थे। हालांकि, परिजनों का कहना है कि वे निर्दोष हैं।

अहमद के परिवार ने आरोप लगाया था कि उन्हें "मानव ढाल" के रूप में इस्तेमाल किया गया था। हालांकि, पुलिस ने दोनों मारे गए नागरिकों को आतंकवादी का सहयोगी करार दिया था। इसी एनकाउंटर को लेकर महबूबा मुफ्ती सुरक्षा बलों और पुलिस की कार्रवाई पर शंका जताती रही हैं। उन्होंने इस एनकाउंटर के विरोध में प्रदर्शन में भी हिस्सा लिया था।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें