DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

PSLV-C43 launch : 30 में से 23 अमेरिका समेत 8 देशों की सेटेलाइट

 ISRO launches HysIS and 30 other satelites on PSLV-C43 (Photo-ANI)

श्रीहरिकोटा से 29 नवंबर को पीएसएलवी-सी 43 रॉकेट का प्रक्षेपण किया गया। यह पृथ्वी का निरीक्षण करने वाले भारतीय उपग्रह एचवाईएसआईएस और 30 अन्य सेटेलाइट अपने साथ अंतरिक्ष में ले गया, उनमें 23 अमेरिका के हैं। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने कहा, पीएसएलवी की 45वीं उड़ान श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केन्द्र के प्रथम प्रक्षेपण स्थल से भरी गई। 

एचवाईएसआईएस पृथ्वी के निरीक्षण के लिए इसरो द्वारा विकसित किया गया है। यह पीएसएलवी-सी43 का प्राथमिक उपग्रह है। उपग्रह 636 किलोमीटर घ्रुवीय सूर्य समन्वय कक्ष (एसएसओ) में 97.957 डिग्री के झुकाव के साथ स्थापित किया जाएगा। उपग्रह की अभियानगत आयु पांच साल है। 

इसरो के अनुसार एचवाईएसआईएस का प्राथमिक लक्ष्य इलेक्ट्रो-मैग्नेटिक वर्ण पट (स्पेक्ट्रम) के समीप इंफ्रारेड और शार्टवेव इंफ्रारेड क्षेत्रों में पृथ्वी की सतह का अध्ययन करना है। एचवाईएसआईएस में एक माइक्रो और 29 नेनो सेटेलाइट होंगे। सभी को पीएसएलवी-सी43 की 504 किमी वाली कक्षा में स्थापित किया जाएगा।

विभिन्न देशों के उपग्रह प्रक्षेपित होंगे
ये उपग्रह भारत, अमेरिका (23), ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, कोलंबिया, फिनलैंड, मलेशिया, नीदरलैंड्स एवं स्पेन शामिल हैं। इन उपग्रहों के प्रक्षेपण के लिए इसरो के वाणिज्यिक अंग एंट्ररिक्स कार्पोरेशन लि. के साथ वाणिज्यक करार किया गया है। पीएसएलवी इसरो का तीसरी पीढ़ी का प्रक्षेपण यान है।

इसरो की बड़ी कामयाबी : PSLV-C43 लॉन्च, करेगा पृथ्वी का अध्ययन

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ISRO launches HysIS and 30 other satelites on PSLV-C43 from Satish Dhawan Space Centre in Sriharikota