ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशमछली बाजार समझ रखा है क्या... वकीलों की बहस पर क्यों भड़के SC जज, CJI की सीख भी बेअसर?

मछली बाजार समझ रखा है क्या... वकीलों की बहस पर क्यों भड़के SC जज, CJI की सीख भी बेअसर?

Supreme Court Hot Exchange: पिछले हफ्ते भी जस्टिस कुमार इसी तरह के एक मामले में युवा वकीलों पर भड़क गए थे। जब एक वकील दूसरे वकील द्वारा पेश किए जा रहे तर्क और तथ्य को बार-बार गलत ठहरा रहा था।

मछली बाजार समझ रखा है क्या... वकीलों की बहस पर क्यों भड़के SC जज, CJI की सीख भी बेअसर?
supreme court news
Pramod Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीFri, 07 Jun 2024 02:51 PM
ऐप पर पढ़ें

Supreme Court Hot Exchange: सुप्रीम कोर्ट में इन दिनों ग्रीष्मावकाश चल रहा है। वैकेशन बेंच जरूरी मामलों की सुनवाई कर रही है। इस दौरान आज (शुक्रवार, 07 जून को) जस्टिस अरविंद कुमार और जस्टिस संदीप मेहता की पीठ किसी मामले की सुनवाई कर रही थी, तभी मामले में पैरवी कर रहे एक वकील अपने विरोधी पक्ष के वकील से उलझ गए और जोर-जोर से एक-दूसरे पर बोलने लगे। इस पर खंडपीठ नाराज हो गई। एक जज ने भड़कते हुए कहा कि ये कोर्ट है या मछली बाजार?

बार एंड बेंच के मुताबिक, जस्टिस अरविंद कुमार ने दोनों युवा वकीलों पर सख्त लहजे में नाराजगी जताई और कहा, "यह सुप्रीम कोर्ट है या मछली बाज़ार? थोड़ी शालीनता दिखाइए। युवा वकीलों को अपने वरिष्ठों से सीखना चाहिए कि कोर्ट में कैसे पेश आना चाहिए!"

पिछले हफ्ते भी जस्टिस कुमार इसी तरह के एक मामले में युवा वकीलों पर भड़क गए थे।  जब एक वकील को दूसरे वकील द्वारा पेश किए जा रहे तर्क और तथ्य को बार-बार गलत ठहराने और बीच-बीच में बोलने से रोका जा रहा था, तब जस्टिस कुमार ने युवा वकील को झाड़ लगाई थी। तब जस्टिस कुमार ने कहा था, "सुप्रीम कोर्ट के सामने आप जैसा कृत्य कर रहे हैं, वैसा पहले कभी नहीं हुआ। इस तरह की कुत्सित चाल और शोर-शराबे से आप इस कोर्ट से आदेश लेना चाहते हैं। यह गलत है।"

बता दें कि देश के मुख्य न्यायाधीश (CJI) जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ कई मौकों पर सुप्रीम कोर्ट में सीनियर वकीलों से कह चुके हैं कि जूनियर वकीलों को आगे आने दें और उन्हें बेंच के सामने मामले को पेश करने का मौका दें, ताकि नई पीढ़ी को तैयार किया जा सके। सीजेआई खुद कई बार जूनिर वकीलों की कोर्टरूम में ही तारीफ कर चुके हैं। यहां तक कि कोर्टरूम में उनके बैठने की भी व्यवस्था व्यक्तिगत रूप से करवा चुके हैं और खुद उनकी जगह बैठकर अदालती कार्यवाही का निरीक्षण कर चुके हैं।