अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ई-टिकट में फर्जीवाड़ा करना पड़ेगा महंगा, होगी जेल, लगेगा जुर्माना 

DEMO PIC

ऑनलाइन टिकट घोटाले के मद्देनजर इसे रोकने के उद्देश्य से रेलवे 1989 के रेलवे अधिनियम में संशोधन करने पर विचार कर रहा है, जिसके तहत ई-टिकट में धोखाधड़ी करने वालों को दंडित करने का प्रावधान इस कानून में शामिल किया जाएगा। सूत्रों ने बताया कि प्रस्तावित संशोधन में ऐसा सुझाव दिया गया है कि इस तरह का अपराध करने वालों पर दो लाख रुपये से अधिक का जुर्माना लगाया जाए। 

हालांकि इस प्रस्ताव में, मामले में दोषी पाए गए लोगों की सजा तीन साल से अधिक करने का सुझाव नहीं दिया गया है। मंत्रालय के एक सूत्र ने बताया, ‘इस तरह की धोखाधड़ी का मामला बढ़ रहा है और एक नया प्रावधान शामिल करने की जरूरत महसूस की गई है। रेलवे सुरक्षा बल ने यह नया प्रावधान प्रस्तावित किया है। इस अधिनियम में संशोधन करने के बाद इसे शामिल किया जाएगा। रेलवे बोर्ड की ओर से इसका अनुमोदित किया जाना बाकी है।’

उन्होंने बताया कि सबसे बड़े रेलवे टिकट घोटाले में से एक में मध्य रेलवे ने दो मई को मुंबई से एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया था जो कथित तौर पर एक फर्जी सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल कर कुछ ही क्षणों में तत्काल टिकट बुक कराने में दलालों की मदद करता था। सॉफ्टवेयर की मदद से एक ही महीने में उसने 35 लाख रुपये से अधिक की कमाई की। पिछले साल दिसंबर में इसी तरह का एक अन्य मामला प्रकाश में आया था, जिसमें सीबीआई के एक अधिकारी और उसके साथी पर एक अवैध सॉफ्टवेयर के जरिए रेलवे की तत्काल टिकट आरक्षण प्रणाली में कथित तौर पर छेड़छाड़ का आरोप लगाया गया था। बाद में उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था।

वर्तमान अधिनियम में ई-टिकट धोखाधड़ी के बारे में विचार नहीं किया गया है, लेकिन टिकटों के अवैध रूप से बेचने, खरीदने या बेचने का प्रयास करने वाले दलालों को सजा देने का एक प्रावधान है। अधिनियम के मुताबिक, सजा पाने वाले को तीन साल तक जेल की सजा या दस हजार रुपये तक का जुर्माना अथवा दोनों से दंडित किया जा सकता है। सूत्रों ने बताया कि संशोधन विधेयक आरपीएफ कर्मियों, वाणिज्यिक, निगरानी विभागों को इन मामलों से निपटने की शक्ति प्रदान करता है।

सम्मानजनक सीटें न मिलीं तो बसपा अकेले चुनाव लड़ेगी : मायावती

वर्तमान में ऑनलाइन धोखाधड़ी में गिरफ्तार लोगों पर सूचना-प्रौद्योगिकी कानून के सथ ही भारतीय दंड संहिता के विभिन्न प्रावधानों के तहत मुकदमा चलाया जाता है। इस प्रस्ताव में उपद्रव करनेवालों, खासकर महिलाओं से दुर्व्यवहार करनेवालों और दिव्यांग जनों के लिए रिजर्व डिब्बों पर कब्जा करनेवालों पर जुर्माने की राशि बढ़ाई जाएगी।  
जानें, हर महीने पेट्रोल और डीजल के दामों में हुई कितनी बढ़ोतरी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:IRCTC Online Ticket Booking Railways Planing Fine More Than 2 Lakh Rupees For E-Ticketing Fraud Scam