DA Image
11 अप्रैल, 2021|12:21|IST

अगली स्टोरी

सोशल मीडिया से: आईपीएस एसोसिएशन भी पुलिस पर हमले से नाराज

दिल्ली पुलिस और वकीलों के बीच संघर्ष का मुद्दा मंगलवार को दिन भर सोशल मीडिया पर छाया रहा। आईपीएस एसोसिएशन और कई आईपीएस अधिकारियों ने इस मुद्दे पर पुलिसवालों के समर्थन में ट्वीट किए। वहीं, ट्विटर पर इस मुद्दे पर कई हैशटैग टॉप ट्रेंड करते रहे।

आईपीएस एसोसिएशन ने पुलिसकर्मियों पर हमले की निंदा की और साथियों के साथ एकजुटता दिखाई। एसोसिएशन ने ट्वीट किया, 'देशभर की पुलिस उन पुलिसकर्मियों के साथ खड़ी है जिन्हें अपमानित किया गया और जिनके साथ मारपीट की गई। कानून तोड़ने की निंदा की जाती है, चाहे ऐसा प्रयास करने वाला कोई भी हो।'

सेवानिवृत्त आईपीएस प्रकाश सिंह ने लिखा, 'देश में लगभग हर हफ्ते किसी एक जिले में पुलिसकर्मियों पर हमले हो रहे हैं। इसे हम अराजक तो नहीं लेकिन अव्यवस्था जैसी स्थिति कह सकते हैं।' दिल्ली पुलिस के पूर्व जनसंपर्क अधिकारी और अरुणाचल प्रदेश के उप महानिरीक्षक मधुर वर्मा ने लिखा, 'मैं क्षमा चाहता हूं.हम पुलिस हैं.हमारा कोई वजूद नहीं है. हमारे परिवार नहीं हैं. हमारे मानवाधिकार नहीं हैं!'

वहीं, कर्नाटक की आईपीएस आईजी डी रूपा ने लिखा, 'ये सिस्टम का मजाक है। मैं बस इतना अपील करना चाहती हूं कि आरोपियों को कड़ी सजा मिले।' जम्मू-कश्मीर के पूर्व डीजीपी एसपी वैद ने लिखा, 'नागरिक समाज की रक्षा करने और कानून-व्यवस्था को कायम रखने में अपना पूरा जीवन बिताने वाले पुलिसकर्मियों के साथ ऐसा व्यवहार देखकर बेहद दुख हुआ।'

वहीं, दूसरी ओर वरिष्ठ आईपीएस असलम खान ने 'हम पुलिसवालों के साथ हैं' हैशटैग को ट्वीट किया। उन्होंने आईपीएस निहारिका भट्ट के ट्वीट को साझा किया - हमारे भी ह्यूमन राइट्स हैं, हमें भी सुनना चाहिए। जब तक आरोप साबित ना हो तब तक बेगुनाह का नियम हर किसी पर लागू होना चाहिए।'

ये भी पढ़ें:वकील-पुलिस झड़प: गृह मंत्रालय के लिए सिरदर्द बना पुलिस का आंदोलन

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:ips association angry with on police attack