ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ देशजम्मू-कश्मीर के बाद राजस्थान में आम हुई नेटबंदी, 88 बार हुआ इंटरनेट शटडाउन

जम्मू-कश्मीर के बाद राजस्थान में आम हुई नेटबंदी, 88 बार हुआ इंटरनेट शटडाउन

विरोध प्रदर्शन और तनाव के बाद अकसर इंटरनेट सेवा बंद कर दी जाती है। जम्मू-कश्मीर में 2012 से 411 बार इंटरनेट सेवा सस्पेंड की जा चुकी है। अब राजस्थान भी नेटबंदी का हॉटबेड बन रहा है।

जम्मू-कश्मीर के बाद राजस्थान में आम हुई नेटबंदी, 88 बार हुआ इंटरनेट शटडाउन
Ankit Ojhaएजेंसियां,जयपुरSun, 03 Jul 2022 03:43 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें


विरोध प्रदर्शनों के बाद इंटरनेट सेवा स्थगित हो जाना देश में सामान्य बात है। उदयपुर में कन्हैयालाल हत्याकांड के बाद बढ़ते तनाव को देखते हुए राजस्थान के कई इलाकों में पिछले 6 दिनों से इंटरनेट सेवा बंद है। अब तक जम्मू-कश्मीर में अकसर इंटरनेट बंद होने की खबरें आया करती थीं। कन्हैया की हत्या के बाद कई जगहों पर लोगों ने विरोध प्रदर्शन किए और सार्वजनिक संपत्ति को भी नुकसान पहुंचाया गया। 

घटना के बाद राजस्थान के सभी जिलों में धारा 144 लगा दी गई और पहले उदयपुर में इंटरनेट सेवा बंद की गई। बाद में पूरे राज्य में इंटरनेट बंद कर दिया गया। हालांकि अब केवल जयपुर और उदयपुर में ही सेवा बंद है। बाकी जगहों पर इसे बहाल कर दिया गया है। यह देश में वैसे तो नया नहीं है लेकिन अलग-अलग रिपोर्ट्स की मानें तो जम्मू-कश्मीर के बाद राजस्थान ही इंटरनेट शटडाउन हॉटस्पॉट बन गया है। 

88 बार हो चुका है इंटरनेट शटडाउन
हाल ही में राजस्थान में 88 बार इंटनेट सेवा सस्पेंड हो चुकी है। जयपुर शहर में इंटरनेट सस्पेंशन सबसे ज्यादा 18 बार हुआ है। दूसरे नंबर पर सीकर और तीसरे पर उदयपुर है। सीकर में 17 बार और उदयपुर में 14 बार इंटरनेट बंद हुआ है। साल 2012 से जम्मू-कश्मीर में 411 बार इंटरनेट सेवा बंद की गई है। इस हिसाब से देश में इस मामले में जम्मू-कश्मीर के बाद राजस्थान का ही दूसरा स्थान है। 

यह आंकड़ा Internetshutdowns.in से लिया गया है जो कि सॉफ्टवेयर फ्रीडम लॉ सेंटर द्वारा चलाी जाने वाली वेबसाइट है। यह टेक्नॉलजी, लॉ और पॉलिसी पर काम करने वाला पहला भारतीय संस्थान है। राजस्थान में कुछ इंटरनेट शटडाउन की बात करें तो 10 जून 2022 को आमेर जिले में विधायक को मिली धमकी के बाद इंटरनेट बंद किया गया।

दूसरे राज्य भी बहुत पीछे नहीं
13 मई 2022 को वीएचपी लीडर पर हमले के बाद राजस्थान में इंटरनेट बंद हुआ। इसी तरह 16 मार्च, 4 अप्रैल, 3 मई, 5 मई और 11 मई को भी अलग-अलग कारणों से इंटनेट सेवा सस्पेंड की गई। राजस्थान के अलावा अन्य राज्यों की बात करें तो वे भी बहुत पीछे नहीं हैं। राजस्थान के बाद महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल का नंबर आता है। हाल में उत्तर प्रदेश में 30 बार, पश्चिम बंगाल में 16 बार और बिहार, महाराष्ट्र में 12-12 बार इंटरनेट सस्पेंड किया गया है।