DA Image
20 अक्तूबर, 2020|4:47|IST

अगली स्टोरी

कुलभूषण मामले में बुरा फंसा पाकिस्तान, इंटरनेशनल कोर्ट से मिले लगातार 3 बड़े झटके

Kulbhushan Jadhav

पाकिस्तान की जेल में बंद कुलभूषण जाधव मामले में जहां एक ओर भारत को बड़ी जीत मिली है, वहीं दूसरी ओर पाकिस्तान के लिए यह बड़ा झटका है। कुलभूषण जाधव मामले में बुधवार को इंटरनेशनल कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया और कुलभूषण की फांसी की सजा पर रोक लगा दी। अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत (आईसीजे) ने बुधवार को व्यवस्था दी कि पाकिस्तान को भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को सुनाई गयी फांसी की सजा पर प्रभावी तरीके से फिर से विचार करना चाहिए और राजनयिक पहुंच प्रदान करनी चाहिए। इसे भारत के लिए बड़ी जीत माना जा रहा है।

यह भी पढ़ें- यूएन कोर्ट का पाकिस्तान को आदेश, कुलभूषण जाधव की सजा की करे समीक्षा

नीदरलैंड के हेग स्थित इंटरनेशनल कोर्ट का यह फैसला जहां भारत के लिए बड़ी जीत है, वहीं पाकिस्तान के लिए झटका। पाकिस्तान को बुधवार के दिन इंटरनेशनल कोर्ट के फैसले में तीन बड़े झटके लगे। तो चलिए जानते हैं इंटरनेशनल कोर्ट ने किस तरह से पाकिस्तान को अपने फैसले से तीन बड़े झटके दिए...

1. मौत की सजा की करें समीक्षा
नीदरलैंड के हेग स्थित अंतरार्ष्ट्रीय न्याय न्यायालय (आईसीजे) ने पाकिस्तान से कहा है कि वह भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को दी गई मौत की सजा की समीक्षा करे। कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान ने भारतीय जासूस बताते हुए मौत की सजा सुनाई हुई है। पाकिस्तान का कहना है कि वह आतंकी गतिविधि में शामिल थे। जबकि भारत ने इसे गलत बताते हुए इसके खिलाफ आईसीजे में अपील की जिसमें आज (बुधवार को) भारत को बड़ी जीत मिली जब आईसीजे ने पाकिस्तान से जाधव की सजा पर पुनर्विचार के लिए कहा।

2. जाधव को मिले कांसुलर एक्सेस 
आईसीजे ने जाधव तक राजनयिक पहुंच दिए जाने की भारत की मांग के पक्ष में फैसला सुनाया है। अब भारतीय उच्चायोग जाधव से मुलाकात कर सकेगा और उन्हें वकील और अन्य कानूनी सुविधाएं दे पाएगा। अब तक पाकिस्तान ने यह एक्सेस नहीं दिया था। 

यह भी पढ़ें- जाधव मामले में भारत ने 1 रुपया जबकि पाकिस्तान ने करोड़ों खर्च किए

3. पाक ने किया विएना संधि का उल्लंघन
नीदरलैंड के हेग स्थित अंतरार्ष्ट्रीय न्याय न्यायालय (आईसीजे) ने बुधवार को भारत की याचिका में उठाए गए अधिकांश मुद्दों को सही ठहराया। आईसीजे ने इस मामले में पाकिस्तान को लताड़ भी लगाई है। अदालत ने कहा कि पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव को उनके अधिकारों से अवगत नहीं कराया और ऐसा कर उसने वियना संधि के प्रावधानों का उल्लंघन किया है। आईसीजे ने पाकिस्तान से कहा कि वह भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को दी गई मौत की सजा की समीक्षा करे। इसका अर्थ यह है कि जाधव की मौत की सजा पर आईसीजे ने जो रोक लगाई थी, वह जारी रहेगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:International Court of Justice Verdict on kulbhushan jadhav case Pakistan gets 3 big setback