DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पाक की जेल में बंद कुलभूषण जाधव होंगे रिहा? आज इंटरनेशनल कोर्ट सुनाएगा अहम फैसला

कुलभूषण जाधव (PTI)

1 / 2कुलभूषण जाधव (PTI)

Judges are seen at the International Court of Justice during the final hearing in the Kulbhushan Jad

2 / 2 The Hague, the Netherlands on February 18.(REUTERS)

PreviousNext

पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव रिहा होंगे या नहीं इसका फैसला आज हो जाएगा। अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत (आईसीजे) भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव से जुड़े मामले में बुधवार को अपना फैसला सुनाएगी। पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत द्वारा जाधव को ''दबाव वाले कबूलनामे के आधार पर मौत की सजा सुनाने को भारत ने आईसीजे में चुनौती दी है।

पाकिस्तानी सैन्य अदालत ने अप्रैल 2017 में बंद कमरे में सुनवाई के बाद ''जासूसी और आतंकवाद के आरोपों में भारतीय नौसेना के सेवानिवृत्त अधिकारी जाधव (49) को मौत की सजा सुनाई थी। उनकी सजा पर भारत ने कड़ी प्रतिक्रिया दी थी।

आईसीजे ने इस महीने की शुरुआत में दिये बयान में कहा कि द हेग के 'पीस पैलेस में 17 जुलाई को भारतीय समयानुसार शाम साढे छह बजे सार्वजनिक सुनवाई होगी जिसमें प्रमुख न्यायाधीश अब्दुलकावी अहमद यूसुफ फैसला पढकर सुनाएंगे।

ये भी पढ़ें: जाधव केसः 'अंतरराष्ट्रीय अदालत के फैसले का पूर्वानुमान नहीं लगा सकते'

पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने पिछले सप्ताह कहा था कि उनका देश जाधव मामले में आईसीजे के फैसले का ''पूर्वानुमान नहीं लगा सकता। हालांकि उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने आईसीजे में इस मामले में अपना पक्ष जोरदार तरीके से रखा है।

भारत ने नयी दिल्ली को जाधव तक राजनयिक पहुंच देने से बार बार इंकार करके पाकिस्तान द्वारा वियना संधि के प्रावधानों का ''खुलेआम उल्लंघन के लिए आठ मई 2017 को आईसीजे का दरवाजा खटखटाया था।

आईसीजे की दस सदस्यीय पीठ ने 18 मई 2017 को पाकिस्तान को जाधव की मौत की सजा पर अमल से रोक दिया था। आईसीजे में सुनवाई के दौरान, भारत और पाकिस्तान दोनों ने अपना अपना पक्ष रखा था और जवाब दिये थे।

ये भी पढ़ें: कुलभूषण जाधव मामले में 17 जुलाई को ICJ सुनाएगा फैसला

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:International court of justice to hear Indian navy Kulbhushan Jadhav case