ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशशीना बोरा की नहीं मिल रहीं हड्डियां, गायब हो गए अवशेष; CBI ने कोर्ट को क्या बताया

शीना बोरा की नहीं मिल रहीं हड्डियां, गायब हो गए अवशेष; CBI ने कोर्ट को क्या बताया

शीना बोरा की हत्या उसकी मां इंद्राणी मुखर्जी, उसके पूर्व पति संजीव खन्ना और ड्राइवर श्यामवर राय ने 24 अप्रैल 2012 में गला घोंटकर की थी। इस हत्याकांड का खुलासा अगस्त 2015 के आसपास हुआ।

शीना बोरा की नहीं मिल रहीं हड्डियां, गायब हो गए अवशेष; CBI ने कोर्ट को क्या बताया
woman who saw sheena bora alive ready to record statement claims indrani mukerjea lawyer
Niteesh Kumarएजेंसी,नई दिल्लीFri, 14 Jun 2024 10:42 PM
ऐप पर पढ़ें

मीडिया जगत की पूर्व दिग्गज इंद्राणी मुखर्जी की पुत्री शीना बोरा के बरामद किए गए अवशेष कथित तौर पर गायब हो गए हैं। दरअसल, शीना बोरा की 14 साल पहले हत्या कर दी गई थी। शीना बोरा के अवशेष गायब होने के बारे में मुंबई की केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) अदालत को जानकारी दी गई है। अभियोजन पक्ष ने गवाह डॉ. जेबा खान से पूछताछ के दौरान अदालत को यह जानकारी दी। डॉ. जेबा इस बात की पुष्टि करने वाली पहली व्यक्ति थीं कि हड्डियां और अन्य अवशेष किसी इंसान के थे। हड्डियां रायगढ़ में पेन पुलिस की ओर से उस स्थान से बरामद की गई थीं, जहां शीना के शव को कथित तौर पर जला दिया गया था और गगोडे-खुर्द गांव के पास घने जंगलों में फेंक दिया गया था।

शीना बोरा की हत्या उसकी मां इंद्राणी मुखर्जी, उसके पूर्व पति संजीव खन्ना और ड्राइवर श्यामवर राय ने 24 अप्रैल 2012 में गला घोंटकर की थी, लेकिन चौंकाने वाली इस हत्याकांड का खुलासा अगस्त 2015 के आसपास ही सामने आई थी। गत 7 मई को अदालती सुनवाई के सीबीआई के सरकारी अभियोजक सीजे नांदोडे ने डॉ. खान को पहचान के लिए बरामद हड्डियों को दिखाने की मांग की, लेकिन सघन तलाशी के बाद भी वे नहीं मिल सकीं। गुरुवार को यहां अगली सुनवाई में सीबीआई ने स्वीकार किया कि सबूत (हड्डियों) वाले दो चिह्नित पैकेटों का पता नहीं लगाया जा सका है। ऐसे में गवाह (डॉ खान) से पूछताछ उसे दिखाए बिना जारी रहेगी।

कैसे हुआ शीना बोरा हत्याकांड
अभियोजन पक्ष के अनुसार, शीना की मां व पूर्व मीडिया दिग्गज इंद्राणी मुखर्जी ने अपने पूर्व पति संजीव खन्ना और अपने ड्राइवर श्यामवर राय के साथ मिलकर 24 अप्रैल, 2012 की रात को कार में उसका गला घोंट दिया था। बाद में उस रात, उन्होंने उसके शव को एक सूटकेस में छिपाकर गगोडे-खुर्द की ओर चले गए। वहां बैग को जला दिया और अगली सुबह जल्दी घर लौटने से पहले उसे जंगल में फेंक दिया। एक महीने बाद, स्थानीय पुलिस को जली हुई हड्डियां और अवशेष मिले। इस सनसनीखेज हत्या का मामला अगस्त 2015 में राय, इंद्राणी और बाद में खन्ना की गिरफ्तारी के बाद ही सामने आया।