ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशशहीद का बेटा अमर रहे... इंदिरा गांधी के हत्यारे का बेटा लड़ रहा चुनाव, नेहरू की पुण्यतिथि पर विवादित नारे

शहीद का बेटा अमर रहे... इंदिरा गांधी के हत्यारे का बेटा लड़ रहा चुनाव, नेहरू की पुण्यतिथि पर विवादित नारे

संगरूर लोकसभा सीट से खालिस्तान समर्थक नेता सिमरनजीत सिंह मान भी चुनाव में उतरे हैं। वह संगरूर लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव में जीतकर फिलहाल सांसद हैं। यह सीट भगवंत मान के इस्तीफे से खाली हुई थी।

शहीद का बेटा अमर रहे... इंदिरा गांधी के हत्यारे का बेटा लड़ रहा चुनाव, नेहरू की पुण्यतिथि पर विवादित नारे
Surya Prakashलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 28 May 2024 12:01 PM
ऐप पर पढ़ें

पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के दो हत्यारों में से एक बेअंत सिंह का बेटा पंजाब की फरीदकोट लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहा है। निर्दलीय उतरे सरबजीत सिंह खालसा फिलहाल प्रचार में व्यस्त हैं और उनकी सभाओं में काफी भीड़ भी उमड़ रही है। यही नहीं सोमवार को इंदिरा गांधी के पिता और देश के पहले पीएम जवाहरलाल नेहरू की 60वीं पुण्यतिथि के मौके पर सरबजीत सिंह खालसा के समर्थकों ने एक रैली निकाली। टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक इस रैली के दौरान सरबजीत सिंह को अमर शहीद का बेटा बताते हुए नारे लगे। इसके अलावा बेअंत सिंह अमर रहें के नारे भी लगाए गए। 

सरबजीत सिंह खालसा के पिता बेअंत सिंह और एक अन्य सुरक्षाकर्मी सतवंत सिंह ने पूर्व पीएम इंदिरा गांधी की उनके ही आवास पर गोलियां मारकर हत्या कर दी थी। दोनों को फांसी की सजा दी गई थी। अब 40 साल बाद बेअंत सिंह का बेटा चुनाव प्रचार में है और 1984 के घटनाक्रम पर चर्चा जोरों पर है। बेअंत सिंह के प्रचार में कहा जा रहा है कि 1984 में इंदिरा गांधी की हत्या अकाल तख्त में सैन्य कार्रवाई कराए जाने का बदला थी। इस तरह की बातों से पंथिक वोटरों को साधने की कोशिश हो रही है। बता दें कि पंजाब में सरबजीत सिंह खालसा के अलावा खालिस्तानी अमृतपाल सिंह भी चुनाव में उतरा है। 

इसके अलावा संगरूर लोकसभा सीट से खालिस्तान समर्थक नेता सिमरनजीत सिंह मान भी चुनाव में उतरे हैं। वह संगरूर लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव में जीतकर फिलहाल सांसद हैं। यह सीट पंजाब के मौजूदा सीएम भगवंत मान के इस्तीफे से खाली हुई थी, जिसके उपचुनाव में सिमरनजीत सिंह मान जीते थे। सरबजीत सिंह खालसा के लिए जुटने वाली भीड़ भी बताती है कि उसे किस तरह समर्थन मिल रहा है। कई गांवों में उसका सम्मान हो रहा है और खालिस्तान समर्थक बातें भी सुनी जा रही हैं।