DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   देश  ›  भारतीय बोले- वर्क फ्रॉम होम में हद से ज्यादा काम, माइक्रोसॉफ्ट की रिपोर्ट में खुलासा
देश

भारतीय बोले- वर्क फ्रॉम होम में हद से ज्यादा काम, माइक्रोसॉफ्ट की रिपोर्ट में खुलासा

एजेंसी,नई दिल्ली।Published By: Himanshu Jha
Mon, 14 Jun 2021 08:13 PM
भारतीय बोले- वर्क फ्रॉम होम में हद से ज्यादा काम, माइक्रोसॉफ्ट की रिपोर्ट में खुलासा

कोरोना महामारी ने जीवनशैली के साथ-साथ ऑफिस में काम के तरीकों में अहम बदलाव किया है। कंपनियां वर्क फ्रॉम होम देकर जहां अपने कर्मचारियों को सुरक्षित कर रही हैं। वहीं, एक रिपोर्ट के मुताबित 57 फीसदी भारतीय कर्मचारियों ने कहा है कि वर्क फ्रॉम होम में हद से ज्यादा काम करना पड़ता है। माइक्रोसॉफ्ट इंडिया के पहले वार्षिक वर्क ट्रेंड इंडेक्स की रिपोर्ट में और भी कई दावे किए गए हैं।

यह रिपोर्ट 31 देशों में 30 हजार से अधिक कर्मचारियों पर अध्ययन करके तैयार की गई है। रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया है कि 74 प्रतिशत भारतीय कामगारों का कहना है कि वर्क फ्रॉम होम जैसी अधिक लचीली कार्य व्यवस्था बेहतर है। जबकि, 32% कर्मचारियों का मानना है कि काम और निजी जीवन में फर्क नहीं रह जाने से वह थका हुआ महसूस करते हैं।

माइक्रोसॉफ्ट इंडिया के मुख्य परिचालन अधिकारी राजीव सोढ़ी ने कहा, अगर हमने पिछले वर्ष में एक बात सीखी है, तो यह है कि हम अंतरिक्ष और समय की पारंपरिक धारणाओं के लिए बाध्य नहीं हैं। अब वह समय आ गया है कि हम कैसे, कब और कहां काम करते हैं। उन्होंने कहा, दूरस्थ कार्य ने नए अवसर पैदा किए हैं लेकिन कई चुनौतियां भी खड़ी की हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक लगभग 71 फीसदी (जिनकी उम्र 18 से 25 वर्ष के बीच है) का कहना है कि वे केवल संघर्ष कर रहे हैं। युवाओं का कहना है कि पुरानी पीढ़ियों की तुलना में उन्हें जीवन के साथ काम को संतुलित करने में कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है।

ऑफिस की बैठकों में हुई बढ़ोतरी
फरवरी 2020 की तुलना में 2021 में 150 फीसदी मीटिंग बढ़ीं। कंपनी की इंटरनल चैट 45 फीसदी ज्यादा हो रही है। 37 प्रतिशत ने अपने लिविंग रूम को ही वर्क रूम बनाया। ऐसे में कई बार सहकर्मियों से वर्चुअली परिवार को मिलाने का मौका भी मिला। ज्यादा कॉल्स की वजह से सहकर्मियों को अधिक जानने का मौका भी मिला है।

62% नौकरी बदलने को तैयार
भारत के लगभग 62% कार्यबल ने इस वर्ष नौकरी बदलने का इरादा व्यक्त किया। हालांकि वैश्विक स्तर पर, 41% कर्मचारी इस साल अपने नियोक्ताओं को छोड़ने पर विचार कर रहे हैं। अब दूर से काम करने में सक्षम होने के कारण लगभग 68% भारतीय कामगारों के नए स्थान पर जाने की संभावना है।

संबंधित खबरें