ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News देशकेवल 14 मिनट में हो जाएगी वंदे भारत ट्रेन की सफाई, जापान की बुलेट ट्रेनों से ली सीख

केवल 14 मिनट में हो जाएगी वंदे भारत ट्रेन की सफाई, जापान की बुलेट ट्रेनों से ली सीख

जिन स्टेशनों पर ऐतिहासिक कार्यक्रम शुरू किया जाएगा उनमें वाराणसी, गांधीनगर, नागपुर, न्यू जलपाईगुड़ी, मुंबई सीएसएमटी, हजरत निजामुद्दीन, दिल्ली कैंट, कासरगोड, गुवाहाटी राउरकेला आदि शामिल हैं।

केवल 14 मिनट में हो जाएगी वंदे भारत ट्रेन की सफाई, जापान की बुलेट ट्रेनों से ली सीख
Amit Kumarनेहा एलएम त्रिपाठी (HT),नई दिल्लीSat, 30 Sep 2023 08:37 PM
ऐप पर पढ़ें

सभी वंदे भारत ट्रेन को केवल 14 मिनट में साफ किया जाएगा। यह भारतीय रेलवे के लिए एक ऐतिहासिक कदम है। रेलवे अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी। यह जापान के बुलेट ट्रेन मॉडल का उदाहरण होगा। जापान में ट्रेनों को सात मिनट में साफ किया जाता है। केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि यह कदम एक बड़ा कदम है क्योंकि अन्यथा ट्रेन को साफ करने में लगभग तीन घंटे लगते हैं।

हर कोच में होंगे चार कर्मचारी

रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, “हम चाहते हैं कि सभी ट्रेनों की सफाई 14 मिनट में हो जाए लेकिन हम अभी इसकी शुरुआत वीबी (वंदे भारत) ट्रेनों से कर रहे हैं। प्रत्येक वंदे भारत कोच में कुल चार कर्मचारी तैनात होंगे। इस पहल को लागू करने के लिए सफाई कर्मचारियों को न केवल एक महीने से अधिक समय तक प्रशिक्षित किया गया है, बल्कि मॉक ड्रिल भी की गई है।” वैष्णव रविवार को दिल्ली छावनी रेलवे स्टेशन पर इस पहल की शुरुआत करने के लिए तैयार हैं। अधिकारी ने कहा, ''29 से अधिक वंदे भारत ट्रेनें रविवार को पूरे देश में एक साथ इस सिस्टम को लॉन्च करेंगी।''

अभी करीब 68 वंदे भारत ट्रेन सेवाएं चालू

जिन स्टेशनों पर ऐतिहासिक कार्यक्रम शुरू किया जाएगा उनमें वाराणसी, गांधीनगर, नागपुर, न्यू जलपाईगुड़ी, मुंबई सीएसएमटी, हजरत निजामुद्दीन, दिल्ली कैंट, कासरगोड, गुवाहाटी राउरकेला और अन्य शामिल हैं। अधिकारी ने कहा, ''प्रत्येक यात्री को विश्व स्तरीय अनुभव दिया जाना चाहिए।'' देश में अभी करीब 68 वंदे भारत ट्रेन सेवाएं चालू हैं। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि मंत्रालय ने इन प्रीमियम ट्रेनों में सुधार किया है। इनमें व्हीलचेयर से चलने वाले यात्रियों के लिए रैंप की सुविधा, सीट को झुकाने के एंगल में वृद्धि, कुशन की कठोरता को कम करना, सीटों से मोबाइल चार्जिंग पॉइंट की पहुंच, एक्जीक्यूटिव क्लास में सीटों के फुट रेस्ट का विस्तार शामिल हैं।

कब से चलेगी वंदे भारत स्लीपर ट्रेन?

वंदे भारत स्लीपर ट्रेनों के बारे में पूछे जाने पर वैष्णव ने कहा कि पहली वंदे भारत स्लीपर ट्रेन फरवरी 2024 में संचालित होगी और इसका प्रोटोटाइप साल के अंत तक तैयार हो जाएगा। उन्होंने कहा, “हमने प्रीमियम ट्रेनों के स्लीपर कोचों को अंतिम रूप दे दिया है और अगले साल फरवरी तक उन्हें लॉन्च करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। सभी परीक्षण दिसंबर में ही किए जाएंगे।” हालांकि उन्होंने कहा कि ट्रेन का रंग और रूट अभी तय नहीं हुआ है।

मंत्री ने कहा कि 20 से 22 कोच वाली इन ट्रेनों के रूट तय किए जा रहे हैं। हम इसके रंग को भी अंतिम रूप देने की प्रक्रिया में हैं। ये वंदे भारत स्लीपर ट्रेनें सभी श्रेणियों (एसी1, एसी2, एसी 3) में अधिकतम यात्री सुविधा की गारंटी के साथ लॉन्च की जाएंगी। मंत्री ने यह भी कहा कि उनके कुल वित्तीय वर्ष 2024 के पूंजीगत व्यय का 59%, जो कि कुल 2.4 लाख करोड़ में से 1.4 लाख करोड़ है, उसका उपयोग वित्तीय वर्ष की पहली छमाही में किया गया है। मंत्री ने कहा, "यह प्रणाली में लाए गए संरचनात्मक और प्रक्रियात्मक बदलावों के कारण संभव हुआ।"

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें