DA Image
22 सितम्बर, 2020|6:25|IST

अगली स्टोरी

प्राइवेट ट्रेन चलाने को रेलवे की कोशिश तेज, इन 23 कंपनियों ने दिखाई दिलचस्पी, जानें कब से चलेंगी ये ट्रेनें

indian railway news 23 companies attend railways meet for running private trains  file photo

भारत में प्राइवेट ट्रेनों को चलाने के लिए कवायद तेज हो गई है। देश में प्राइवेट ट्रेन चलाने के लिए भारतीय रेलवे ने बुधवार को दूसरी प्री-अप्लीकेशन कॉन्फ्रेंस की, जिसमें 23 कंपनियों ने हिस्सा लिया। प्राइवेट ट्रेनों के परिचालन में बॉम्बार्डियर, एल्सटॉम, सीमेंस और जीएमआर सहित 23 कंपनियों ने दिलचस्पी दिखाई। भारतीय रेलवे ने बुधवार को इसकी जानकारी दी।

रेलवे ने कहा कि इन कंपनियों ने आवेदन प्रक्रिया से पूर्व बुधवार को इस संबंध में हुई एक बैठक में हिस्सा लिया। 12 कलस्टरों में प्राइवेट ट्रेनों को चलाने को लेकर हुई इस बैठक में बीईएमएल, आईआरसीटीसी, भेल, सीएएफ, मेधा ग्रुप, स्टरलाइट, भारत फोर्ज, जेकेबी इंफ्रास्ट्रक्चर और तीतागढ़ वैगन्स लिमिटेड भी शामिल हुईं।

कितनी ट्रेनें और कितने रूट
भारतीय रेलवे ने 151 आधुनिक रेलगाड़ियों (रेक) के माध्यम से 109 मार्गों पर यात्री सेवा (पैसेंजर ट्रेन) के परिचालन में प्राइवेट पार्टनरशिप के लिए अनुरोध आमंत्रित किए हैं। ये नई ट्रेनें नेटवर्क पर पहले से चल रही ट्रेनों के अतिरिक्त होंगी।रेलवे नेटवर्क पर यात्री रेलगाड़ियां चलाने के लिए निजी निवेश की यह पहली पहल है। इस परियोजना से लगभग 30 हजार करोड़ रुपये का निजी निवेश प्राप्त होने का अनुमान है।

मीटिंग में क्या-क्या हुआ
प्राइवेट ट्रेन के परिचालन के लिए आए आवेदकों ने रेलवे के सामने अपने कई मुद्दे उठाए। मसलन, क्लस्टर्स में फ्लेक्सिबिलिटी, पात्रता मानदंड, बोली प्रक्रिया, ट्रेनों की खरीद, ट्रेनों का किराया, संचालन और रखरखाव सहित कई मुद्दे। हालांकि, रेल मंत्रालय ने इस बात पर जोर देते हुए जवाब दिया कि निजी खरीददारों को गाड़ियों की खरीद के मामले में पूरी आजादी दी जाएगी - या तो ट्रेनें खरीदी जा सकती हैं या लीज पर ली जा सकती हैं। मंत्रालय ने यह भी स्पष्ट किया कि प्राइवेट ट्रेन संचालकों को अपने यात्रियों से वसूला जाने वाला किराया तय करने की स्वतंत्रता होगी।

कब से शुरू होंगी प्राइवेट ट्रेनें
प्राइवेट ट्रेनों के संचालन को लेकर सरकार का कहना है कि देश में प्राइवेट ट्रेनें मार्च 2023 से चलेंगी। इसके लिए टेंडर मार्च 2021 तक फाइनल कर लिए जाएंगे। ज्यादातर प्राइवेट ट्रेन मेक इन इंडिया के तहत भारत में ही बनाई जाएंगी। बता दें कि इससे पहले 21 जुलाई 2020 को प्री-अप्लीकेशन कॉन्फ्रेंस हुई थी। 

कौन-कौन कंपनी हुईं शामिल
अल्सटॉम ट्रांसपोर्ट इंडिया लिमिटेड, बीईएमएल, भारत फॉर्ग, भेल, बॉमबार्डियर ट्रांसपोर्ट इंजिया, सीएएफ इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, गेटवे रेल, जीएमआर इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड, हिन्द रेक्टिफायर लिमिटेड, आई-बॉन्ड इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, आईआरसीटीसी लिमिटेड, आईएसक्यू एशिया इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट प्राइवेट लिमिटेड, जसन इंफ्रा प्राइवेट लिमिटेड, जेकेबी इंफ्रास्ट्रक्चर प्राइवेट लिमिटेड, एलएंडटी इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट प्रोजेक्ट्स लिमिटेड, मेधा, मेघा इंजीनियरिंग एंड इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड, नेशनल इन्वेस्टमेंट एंड इंफ्रास्ट्रक्चर फंड लिमिटेड, पीएसजीजी टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड, आरके एसोसिएट्स एंड होटलियर्स प्राइवेट लिमिटेड, सीमेंस लिमिटेड, स्टरलाइट पावर और टीटागढ़ वैगन्स लिमिटेड।

प्राइवेट ट्रेन के मसौदे में क्या-क्या है
निजी रेलगाड़ियों के लिए एक मसौदा विनिर्देश के अनुसार, इन प्राइवेट ट्रेनों में इलेक्ट्रॉनिक स्लाइडिंग दरवाजे, सुरक्षा कांच के साथ खिड़कियां, आपातकालीन टॉक-बैक तंत्र, यात्री निगरानी प्रणाली और सूचना एवं गंतव्य बोर्ड होने चाहिए। ये कुछ ऐसी विशेषताएं हैं जो रेलवे ने निजी ऑपरेटरों से इन रेलगाड़ियों के लिए मांग की है।

इस मसौदे को रेलवे ने बुधवार को साझा किया। इसमें कहा गया है कि ये रेलगाड़ियां यात्रियों को शोर-मुक्त यात्रा प्रदान करेंगी और 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने में सक्षम होंगी। इसमें कहा गया है, 'ट्रेन को ऐसे डिजाइन किया जाएगा ताकि वे परीक्षण के दौरान 180 किलोमीटर प्रति घंटे की अधिकतम गति से सुरक्षित रूप से संचालित हो सकें।'

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Indian Railway News 23 companies attend Railways meet for running private trains