DA Image
8 मई, 2021|12:15|IST

अगली स्टोरी

आतंक के आका को आसानी से नहीं छोड़ेगा भारत, पाकिस्तान को इस मांग पर झुकना ही होगा

pakistan pm imran khan

भारत आतंकवाद को वित्तपोषण (टेरर फाइनेंसिंग) के मामले में पाकिस्तान पर दबाव बनाए रखेगा। गुरुवार को एफएटीएफ में पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में बनाए रखने के फैसले के बाद आतंकवाद रोकने को लेकर भारत की मांगों पर कार्रवाई करना पाकिस्तान की मजबूरी बन सकता है। कूटनीतिक जानकारों का कहना है कि सीमा पर संघर्ष विराम के बाद पाकिस्तान अगर टेरर फाइनेंसिंग को लेकर सख्त कदम उठा पाता है तो उसे वित्तीय संकट से उबारने में अंतरराष्ट्रीय मदद का रास्ता खुल सकता है। अन्यथा उसकी मुश्किल बनी रहेगी। 

सूत्रों ने कहा भारत यूएन द्वारा नामित आतंकियों और भारत मे आतंकी घटनाओं के दोषियों पर कार्रवाई को लेकर लगातार दबाव बनाए हुए है। इसकी वजह से ही पाकिस्तान की आतंकी वित्तपोषण के मामले में सघन निगरानी चल रही है। अमेरिका और यूरोप के विभिन्न देशों का दबाव पाकिस्तान पर है। भारत के रुख को दुनिया के प्रभावी देशो ने न सिर्फ समझा है बल्कि पाकिस्तान को बार-बार आईना भी दिखाया जा रहा है। इस बार भी आतंकरोधी कार्रवाई के नाम पर पाकिस्तान ने जो कुछ भी किया वह दुनिया के देशो को संतुष्ट नही कर पाया है। जिन तीन बिंदुओं पर पाकिस्तान एक बार फिर निगरानी के दायरे में आया है वे सभी टेरर फाइनेंसिंग और आतंकी संगठनों पर ठोस कार्रवाई से जुड़े हैं।
भारत का रुख बहुत स्पष्ट

सूत्रों ने कहा आतंकवाद को लेकर भारत का रुख बहुत स्पष्ट है। भारत का मानना है कि पाकिस्तान को मसूद अजहर और हाफिज सईद सहित अन्य आतंकियों और उनसे जुड़े संगठनों पर कार्रवाई के साथ कश्मीर में आतंकी गतिविधियों को फंडिंग करना रोकना होगा। भारत के पास पाकिस्तान की आतंकी फंडिंग को लेकर पुख्ता सबूत है जो वह समय-समय पर अमेरिका, फ्रांस, ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन सहित अन्य देशों से साझा करता रहा है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:India will keep pressure on Pakistan in terms of terrorist funding