DA Image
29 अक्तूबर, 2020|9:19|IST

अगली स्टोरी

पूर्वोत्तर राज्यों में चीन न करे कोई चालाकी, भारत ने अरुणाचल प्रदेश में बढ़ाई सैन्य ताकत

                                                                                                                      afp

पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर जारी तनातनी के बीच भारत ने पूर्वोत्तर के राज्यों में सैन्य ताकत को बढ़ा दिया है। भारत और चीन के सैनिकों के बीच जून के मध्य में हुई हिंसक झड़प के बाद, अरुणाचल प्रदेश से लगती दोनों देशों की सीमा पर और अधिक जवानों की तैनाती की गई है।

एशिया के दो दिग्गजों के बीच दशकों बाद जून महीने में इतनी भीषण स्थिति आई, जहां पर भारत के 20 सैनिक शहीद हुए और चीन के कई सैनिक मारे गए। लगातार बातचीत के बाद दोनों देशों के बीच तनावपूर्ण माहौल में कुछ नरमी के संकेत जरूर देखने को मिले हैं। लेकिन, पिछले महीने के अंत में फिर से पैंगोंग क्षेत्र में चीन ने उकसावेपूर्ण कार्रवाई की।

अरुणाचल प्रदेश के अंजाव जिले में सैनिकों की आवाजाही दोनों देशों के बीच व्यापक टकराव के संकेत दे रही है। हालांकि, भारत के अधिकारियों ने इससे इनकार किया है। अंजाव की चीफ सिविल सर्वेंट आयुषी सूदन ने कहा, 'निश्चित तौर पर सैन्य उपस्थिति में बढ़ोतरी हुई है, लेकिन जहां तक टकराव की रिपोर्टों का सवाल है तो ऐसी कोई जानकारी अभी तक नहीं मिली है।' उन्होंने कहा कि वहां भारतीय सेना की कई बटालियन वहां तैनात थीं।

यह भी पढ़ें: बॉर्डर पर तनाव के बीच सरकार ने PUBG समेत 118 मोबाइल ऐप्स पर लगाया बैन

पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में हुई झड़प का जिक्र करते हुए आयुषी ने कहा कि गलवान घाटी की घटना के बाद, वहां पर सैनिकों की तैनाती में बढ़ोतरी की गई है। अरुणाचल प्रदेश साल 1962 में भारत और चीन के बीच युद्ध का केंद्र रहा था। सुरक्षा मामलों की जानकारी रखने वाले कहते हैं कि यह फिर से दोनों देशों के बीच टकराव की वजह बन सकता है।

वहीं, भारतीय सैन्य प्रवक्ता, लेफ्टिनेंट कर्नल हर्षवर्धन पांडे ने कहा कि चिंता की कोई वजह नहीं है। क्षेत्र में पहुंचने वाले सैनिक नियमित रोटेशन का हिस्सा थे। उन्होंने कहा, 'मूल रूप से, यह इकाइयां बदल रही हैं। ऐसा ही हो रहा है, हर बार होता है, ज्यादा कुछ नहीं।' अरुणाचल से सांसद तापिर गाव ने कहा कि अब तक, उस मोर्चे पर चिंता की कोई बात नहीं है। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:India secures its east after western Himalaya clashes with China