DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   देश  ›  कश्मीर, अफगानिस्तान पर पाकिस्तान की टिप्पणी को भारत ने किया खारिज, कहा- आतंकवाद पर ध्यान दो
देश

कश्मीर, अफगानिस्तान पर पाकिस्तान की टिप्पणी को भारत ने किया खारिज, कहा- आतंकवाद पर ध्यान दो

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Ashutosh Ray
Thu, 24 Jun 2021 10:09 PM
कश्मीर, अफगानिस्तान पर पाकिस्तान की टिप्पणी को भारत ने किया खारिज, कहा- आतंकवाद पर ध्यान दो

भारत ने गुरुवार को कश्मीर मुद्दे और अफगानिस्तान में भारत की भूमिका के बारे में पाकिस्तानी नेतृत्व के हालिया बयानों को खारिज कर दिया है। भारत ने आगे कहा कि इस्लामाबाद को आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई करके सामान्य द्विपक्षीय संबंधों के अनुकूल माहौल बनाने पर ध्यान देना चाहिए। 

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी की टिप्पणियों का जवाब देते हुए कहा कि वह पाकिस्तान के साथ सामान्य संबंध रखना चाहता है और यह उस पर निर्भर करता है कि वह अपने अधीन किसी भी क्षेत्र का सीमापार आतंकवाद के लिए इस्तेमाल नहीं होने देने के लिए विश्वसनीय, पुष्टि करने योग्य और अपरिवर्तनीय कदम उठाने सहित उपयुक्त माहौल बनाए।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, पाकिस्तान को अपने अधीन किसी भी क्षेत्र का भारत के खिलाफ सीमापार आतंकवाद के लिए इस्तेमाल नहीं करने देने के लिए विश्वसनीय, पुष्टि करने योग्य और अपरिवर्तनीय कदम उठाने सहित उपयुक्त माहौल बनाना चाहिए। यह पूछे जाने पर कि ऐसी खबरें आईं जिनमें पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कश्मीर मुद्दा सुलझने पर परमाणु प्रतिरोध की जरूरत नहीं होने की बात कही है, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि जहां तक जम्मू कश्मीर का सवाल है, यह भारत का आंतरिक मामला है। 

अफगानिस्तान में भारत की भूमिका पर पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी की टिप्पणी के बारे में पूछे गए एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि हमने मीडिया में ऐसी खबरें देखी हैं। हमारा मानना है कि अफगानिस्तान के लोगों को अपने सहयोगी और उसके आकार के बारे में निर्णय करना है।

उन्होंने कहा कि भारत ने अफगानिस्तान में बिजली, बांध, स्कूल, सामुदायिक परियोजनाएं आदि बनाने का काम किया है। बागची ने कहा, दुनिया जानती है कि पाकिस्तान, अफगानिस्तान में क्या लाया है। एक अन्य सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि भारत, अफगानिस्तान शांति प्रक्रिया का समर्थन करता है और क्षेत्रीय देशों सहित विभिन्न पक्षकारों के सम्पर्क में है।

संबंधित खबरें